Google AdSense Approval : मेहनत का फल और जिंदगी की नयी शुरुआत

google-adsense-approval

 

Google AdSense Approval : मेहनत का फल और जिंदगी की नयी शुरुआत  

हर ब्लॉगर की ख्वाहिश (desire) होती है कि उसका ब्लॉग successful होने के साथ साथ उसके ब्लॉग पर Google AdSense का approval मिल जाये। और लगभग सभी blogger पैसा कमाने (earning) के लिए ही blog बनाते हैं। और ये सही भी है कि जो ब्लॉगर इतनी मेहनत (hard work) से अपने ब्लॉग पर आर्टिकल लिखता है उसे उस मेहनत का फल तो मिलना ही चाहिये।

google-adsense-approval

 

आज मुझे भी अपनी मेहनत का फल मिला है। आज मेरे ब्लॉग पर 135 आर्टिकल प्रकाशित हो चुके हैं और हर महीने लगभग 150000 (डेढ़ लाख) page views हो रहे हैं और मेरे बहुत से आर्टिकल कई हज़ार बार पढ़े जा चुके हैं। और finally मुझे Google AdSense का  Approval भी मिल चुका है जिसके Ads आप मेरे ब्लॉग पर देख सकते हैं।

अपने ब्लॉग को सफल होते देखना और उस पर Google AdSense का  Approval मिलना और अपने ब्लॉग पर गूगल के Ads देखना बड़ी ही ख़ुशी देने वाला पल होता है। एक ब्लॉगर ही इस ख़ुशी को महसूस कर सकता है। क्योंकि वो अपना कीमती समय (valuable time) अपने ब्लॉग पर लगाता है और एक एक आर्टिकल को लिखने के लिये बहुत मेहनत करता है।

ये सिर्फ एक ब्लॉगर ही बता सकता है कि उसे अपने ब्लॉग पर एक आर्टिकल लिखने के लिये कितनी मेहनत करनी पड़ती है। ब्लॉगर उस आर्टिकल से संबंधित जितनी ज्यादा से ज्यादा जानकारी जुटा सकता है जुटाता है। फिर उस जानकारी और अपने अनुभव के आधार पर एक ऐसा आर्टिकल अपने पाठकों के लिए पेश करता है जो किसी ना किसी तरह से लोगों का भला कर सके, उनकी जिन्दगी में कुछ बदलाव ला सके, उनके सोचने के नज़रिये को बदल सके और लोगों को आगे बढ़ने में मदद कर सके।

आज मैं भी अपनी ख़ुशी को आप लोगों के साथ share करना चाहता हूँ और आज मैं आपको बताना चाहता हूँ कि Gyan Versha कैसे बना, इसका अब तक का सफ़र कैसा रहा और क्यूँ इतनी जल्दी सफल हो गया?

Gyan Versha की शुरुआत।

आपको जानकर थोड़ा ताज्जुब और आश्चर्य हो सकता है कि Motivation पर इतने अच्छे अच्छे आर्टिकल लिखने वाला शख्स कभी शायरी करता होगा। रह गए ना हैरान? जी हाँ मैं पहले शायरी करता था और लिखता था। और इसकी वजह था “प्यार”। मैं एक लड़की से बेंतेहा प्यार करता था और उसके लिए ही शायरी लिखा करता था। और अपने इसी शौक को पूरा करने के लिए मैंने ShayriByPK नाम से WordPress पर एक ब्लॉग भी बना लिया। और उस पर शायरी लिखने लगा। इसी दौरान लगभग 6 साल लम्बे रिलेशनशिप के बाद वो लड़की मुझे धोखा देकर चली गयी। वो वक्त मेरी जिंदगी का सबसे दर्दभरा वक़्त था। उस वक़्त भावनात्मक तौर पर मैं बिलकुल अकेला था। बहुत जल्दी से मुझे विश्वास ही नहीं हुआ कि उसने मेरा दिल तोड़ दिया है। और उसकी वजह भी सिर्फ इतनी सी कि मेरे पास Govt. जॉब नहीं थी। मैंने उसे बहुत समझाया कि मेरे सपने अलग हैं। Govt. जॉब मेरा सपना नहीं है। लेकिन वो नहीं मानी। उस वक़्त मैं लगभग टूट सा गया था। कई बार आत्महत्या करने का भी मन किया पर कर नहीं पाया। तभी एक साथ कई बाते घटी।

एक दिन मैं टीवी पर एक movie देख रहा था जिसका नाम था “मेरी जंग”। इस फिल्म में अनिल कपूर ने एक ऐसे शख्स का किरदार निभाया है जो जिंदगी के हर कदम को एक जंग की तरह जीता है और बहुत ही विपरीत परिस्तिथियों और मुश्किलों से निकल कर सफलता की बुलंदियों को छूता है। इस फिल्म ने मुझे बहुत प्रभावित किया और मेरी सोच बदलने लगी। फिर मैंने motivational books तलाशनी शुरू की और इन्टरनेट पर motivational articals पढ़ने लगा। इसी दौरान मुझे एक किताब मिली जिसका नाम था “सोच बदलो जिन्दगी बदलो”। इस किताब ने सच में मेरी सोच और जिंदगी को बदल कर रख दिया।

मुझे ये एहसास हुआ कि मैं दुनिया में ऐसा अकेला बंदा नहीं हूँ जिसका दिल टूटा है या मुश्किल दौर से गुजर रहा है और भी बहुत से लोग हैं ऐसे दुनिया में। बस तभी मैंने decide कर लिया कि मैं अनुभव के आधार पर ऐसे लोगों को रास्ता दिखाउंगा जो किसी भी वजह से नकारात्मकता का शिकार हैं, अपनी जिन्दगी से हिम्मत हार रहे हैं, जिन्हें हर ओर अँधेरा ही दिखाई देता है और जिनकी जीने की इच्छा लगभग ख़त्म सी हो गयी है।

और बस इसी सोच के साथ 6 जुलाई 2015 को शायरी छोड़कर Gyan Versha की शुरुआत की। और आज सिर्फ 14 महीने में ही ये ब्लॉग अपने मकसद में कामयाब भी हो रहा है।

मेहनत का फल क्यों?

मैं अपना आर्टिकल रात 10 बजे से 2 बजे के बीच में लिखता हूँ। कभी कभी 3 भी बज जाते हैं। कभी कभी आर्टिकल एक दिन में ही पूरा हो जाता है तो कभी कभी 2 से 3 दिन भी लग जाते हैं। जहाँ मैं रहता हूँ उस मकान में 10 – 11 बजे तक लगभग सभी लोग सो जाते हैं। जब सब लोग सोते हुए होते हैं तब मैं आर्टिकल लिखता रहता हूँ। और मेरी हमेशा यही कोशिश रहती है कि मेरा हर एक आर्टिकल पहले से बेहतर हो और ज्यादा से ज्यादा लोगों का भला करने वाला हो। इसलिए मुझे जो भी ऐसा टॉपिक मिलता है जिस पर लिखकर मैं किसी का कुछ फायदा कर सकूँ या उसकी जिन्दगी या उसकी सोच में कुछ बदलाव ला सकूँ मैं उस टॉपिक पर लिख देता हूँ।

अपना आर्टिकल लिखने के लिए मुझे कई कई दिन तक टीवी देखने को नहीं मिल पाता। कभी कभी सही से सो भी नहीं पाता हूँ और भी बहुत सारी चीजें हैं जिनसे न चाहते हुए भी दूर रहना पड़ता है। और ऐसा सिर्फ मैं ही नहीं करता हूँ लगभग हर ब्लॉगर अपने ब्लॉग को सफल बनाने के लिए करता है। इसीलिए किसी ब्लॉग का लाखों लोगों द्वारा पसंद किया जाना और उस ब्लॉग का सफल होना उस ब्लॉगर की मेहनत का फल ही होता है।

Gyan Versha को सफल बनाने में किन किन लोगों का योगदान है?

हालाँकि इस ब्लॉग के सभी आर्टिकल मैंने ही लिखे हैं (कुछ moral stories और कोट्स को छोड़कर)। फिर भी मेरे अलावा इस ब्लॉग को सफल बनाने में बहुत से लोगों का योगदान हैं जिन्हें मैं दिल से धन्यवाद देना चाहता हूँ। मैं इस ब्लॉग के सभी नियमित पाठकों, रोजाना visit करने वाले हजारों लोगों, कमेंट करके मेरा उत्साह और मनोबल बढ़ाने वाले लोगों और directly और indirectly अपना योगदान देने वाले हर शख्स को दिल से धन्यवाद देता हूँ और उनका हमेशा आभारी रहूँगा।

मुख्य रूप से मैं achhikhabar के गोपाल मिश्रा जी, kanafusi के जमशेद आज़मी जी, nayichetna के सुरेन्द्र मेहरा जी, aapkisafalta के अमूल शर्मा जी, achhiprerna के संदीप नेगी , नीतू कुमार जी, भगवान बाबू जी, बोबिंदर दीवान जी को धन्यवाद् देना चाहूँगा जिन्होंने समय समय पर मेरा उत्साह और मनोबल बढ़ाया है और मुझे पहले से बेहतर लिखने के लिए प्रेरित किया है।

एक नयी शुरुआत।

दोस्तों, Google AdSense का  Approval मिलने से निश्चित रूप से एक ब्लॉगर के लिए बहुत सी चीजें बदल जाती हैं। ये एक पड़ाव को पार करने जैसा होता है। एक लक्ष्य को हासिल करने जैसा होता है। इसके बाद आगे के लक्ष्य बनने लगते हैं। इससे ये निश्चित हो जाता है कि अब उसकी मेहनत साकार हो रही है। और उसके काम के बदले में अब लोगों की दुआओं और तारीफों के अलावा पैसा भी मिलने लगा है। जिससे वह पहले से ज्यादा उत्साह और लगन से अपना काम करता है। आपको भी इस ब्लॉग पर आने वाले दिनों में काफी अच्छे अच्छे और लाभदायक आर्टिकल पढ़ने को मिलेंगे।

एक सन्देश।

“अपने अन्दर छुपी प्रतिभा को पहचानें और अपनी प्रतिभा और रूचि के अनुसार अपना लक्ष्य बनायें और पूरी ईमानदारी और लगन के साथ धैर्यपूर्वक अपने लक्ष्य की और बढ़ते रहें। कितने भी मुश्किल से मुश्किल हालात हों, कितनी भी विपरीत परिस्तिथियाँ हो, कभी हिम्मत ना हारें, अपने आपको कभी कमजोर ना पड़ने दे, नकारात्मकता को अपने ऊपर हावी ना होने दें। उम्मीदों का दिया हमेशा जलाकर रखें, अपनी पूरी ताकत और सकारात्मक सोच के साथ दृढ़तापूर्वक प्रयास करते रहें, एक दिन आप देखेंगे कि आपने अपने लक्ष्य को प्राप्त कर लिया है और आप जीत गए हैं।” – पुष्पेन्द्र कुमार सिंह

 

GyanVersha.com के सबसे ज्यादा popular आर्टिकल जो कई हजार बार पढ़े गए हैं  

 


“आपको ये  आर्टिकल कैसा लगा  , कृप्या कमेंट के माध्यम से  मुझे बताएं ………धन्यवाद”

“यदि आपके पास हिंदी में  कोई  Life Changing Article, Positive Thinking, Self Confidence, Personal Development,  Motivation , Health या  Relationship से  related कोई  story या जानकारी है  जिसे आप  इस  Blog पर  Publish कराना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो और  details के साथ  हमें  gyanversha1@gmail.com  पर  E-mail करें।

पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. ………………धन्यवाद् !”

—————————————————————————————————–

दोस्तों ये ब्लॉग लोगो की सेवा के उद्देश्य से बनाया गया है ताकि इस पर ऐसी पोस्ट प्रकाशित की जाये जिससे लोगो को अपनी ज़िंदगी में आगे बढ़ने में मदद मिल सके ……… अगर आपको हमारा ये ब्लॉग पसंद आता है और इस पर प्रकाशित पोस्ट आपके लिए लाभदायक है तो कृपया इसकी पोस्ट और इस ब्लॉग को ज़्यादा से ज़्यादा Share करें ताकि ज़्यादा से ज़्यादा लोगो को इसका लाभ मिल सके………
और सभी नयी पोस्ट अपने Mail Box में प्राप्त करने के लिए कृपया इस ब्लॉग को Subscribe करें।


नए पोस्ट अपने E-mail पर तुरंत प्राप्त करने के लिए यहाँ अपना नाम और E-mail ID लिखकर Subscribe करें।
loading...
Loading...
About Pushpendra Kumar Singh
Hi Guys, This is Pushpendra Kumar Singh behind this motivational blog. I founded this blog to share motivational articles on different categories to make a change in human livings. I love to serve the people and motivate them.I love to read and write motivational things. Be friend with Pushpendra at Facebook Google+ Twitter

27 Comments on Google AdSense Approval : मेहनत का फल और जिंदगी की नयी शुरुआत

  1. बधाई हो पुष्पेन्द्र!

    Google AdSense की Wonderful Family में आपका स्वागत है, जिसका मैं भी एक हिस्सा हूँ। अपने experience से मैं तुम्हें ये surety दे सकता हूँ कि आप इसमें काफी successful रहोगे because I find your writing is so engaging!

    Keep It Up!

  2. you write well i ponder your blogs very often…

  3. Wah ji wah! Aapko bahut bahut badhai ho…..sach hai ki Google Adsense milna ek sapne ko poora hone jesa hota hai…..ads ke sath aapka blog bahut accha lag raha hai…..aapne apne anubhav share kiye hain….read karke bahut accha laga…..hindi ke blogs ko aage badte dekhkar mujhe bahut khushi hoti hai…….

  4. Congrats ………. and Very Nice Collection in Hindi !! 🙂

  5. Sir, I think apke article me “और बस इसी सोच के साथ 6 जुलाई 2016” ki jagah “और बस इसी सोच के साथ 6 जुलाई 2015” hona chahiye because 13 mahine tab ja ke complete honge. Please, correct this Sir.

  6. Badhayi ho pushpendra ji
    Apka yah article sabhi bloggers ke liye prerna hai

  7. मुबारक हो!

  8. Pushpendra Ji, Keep it Up.
    Aapka lekhan bahut shandar hai, isme koi shak nahi nahi hai ki mehnat ka fal nahi milta hai. Mehnat ka fal milta jaroor hai but sabra ke sath uska intzaar karna hota hai…
    Hum aapke ujjwal bhavishya ki kamna karte hai..

  9. Wah Pushpendraji.. Bahot Dhanyabad aapka. Aapke blog ka ek naya chapter start ho gaya he.

  10. पुष्पेन्द्र जी आपको एडसेंस के लिए बहुत – बहुत बधाई। पहला कदम ब्लॉग्गिंग का पार हुआ। यह सच में बहुत ख़ुशी देता है। आपने अपने इस लेख में एक ब्लॉगर के बारे में जो बातें कही वह बिलकुल सच है। आपकी कहानी पढ़ी दिलचस्प है। बहुत बढ़िया मेरा साथ हमेशा आपके साथ है।

  11. Nilesh Bhawsar // September 22, 2016 at 5:16 PM // Reply

    Sir, i am very happy, muze aapka article ‘ky kare jab dil tut jai” bahut acha laga. aur “nokri jane ke 9 kam” bhi bahut acha laga, aap uhi hi achi post kerte rahe, god appko aur tarkki de. (Nilesh Bhawsar)

  12. PANKAJ SHRIMALI // October 1, 2016 at 12:20 PM // Reply

    Nice Artical, be continued sir….

    Thanks

    Pankaj Shrimali

1 Trackbacks & Pingbacks

  1. खुशखबरी : गूगल एडसेंस ने हटाई per page ads limitation | Gyan Versha

Leave a comment

Your email address will not be published.


*