रेप, हमले या अपहरण से महिलायें कैसे बचें -बचाव के 11 तरीके?

Share this Article on

रेप, हमले या अपहरण से महिलायें कैसे बचें -बचाव के 11 तरीके? (how to defend women herself from rape,attack or kidnapping-11 safety tips?)

नेशनल क्राइम रिकार्ड्स ब्यूरो (National Crime Records Bureau – NCRB) की एक रिपोर्ट्स के मुताबिक भारत में वर्ष 2014 में महिलाओं पर हुए अत्याचारों की संख्या लगभग 325330 थी। जिसका मतलब है कि वर्ष 2014 में प्रतिदिन लगभग 904 महिलाओं पर अत्याचार  हुए। जिनमें से 36735 रेप केस (103 रेप प्रतिदिन), 13969 केस रेप के प्रयास के (39 केस प्रतिदिन), 57311 केस किडनेपिंग या अपहरण के (160 केस प्रतिदिन), 82235 केस छेड़छाड़ के (285 केस प्रतिदिन) दर्ज हुए। इनसे अलग बाकी घरेलू अत्याचार या घरेलू हिंसा के केस अलग है।

women defense in hindi

                                                                                            (Image source)

जारी आंकड़ों के मुताबिक इन अपराधों में 32% मामलों में पड़ोसी, 6.6% मामलों में रिश्तेदार, 53.7% मामलों में दूसरे जानने वाले, 1.7% मामलों में परिवार के लोग, तथा 6% मामलों में अनजान लोग शामिल थे। जिनमें से 46% रेप 18 से 30 साल की महिलाओं के साथ हुए। जबकि 27% रेप 18 साल से कम उम्र की लड़कियों के साथ किये गए। महिलाओं के साथ होने वाले अपराधों का ये आंकड़ा वाकई बहुत ही भयानक और शर्मनाक है और सोचने पर मजबूर कर देता है।

इसे भी पढ़ें :- ट्रायल रूम, होटल, बाथरूम में छिपे हुए कैमरों का पता कैसे लगायें ?

आंकड़ों के मुताबिक सिर्फ दिल्ली में ही 6 महिलायें रोजाना रेप का शिकार होती हैं और लगभग 15 महिलायें रोजाना छेड़छाड़ का शिकार होती हैं।

अपने पिछले आर्टिकल में मैंने बताया था कि किन किन बातों का ध्यान रखकर महिलायें अपने आप को छेड़छाड़ या किसी होने वाली अनहोनी से बचा सकती हैं? अगर उन बातों पर अमल किया जाये तो छेड़छाड़ या हमले की संभावनायें काफी हद तक कम हो जाती हैं। फिर भी अगर कभी ऐसी स्थिति आ जाये कि आपके साथ कोई बदतमीजी कर रहा है, शारीरिक छेड़छाड़ कर रहा है या किसी ने आप पर हमला कर दिया है या कोई आपका रेप करने की कोशिश कर रहा है तो ऐसी स्थिति में भी आपको घबराना नहीं चाहिए, डरना नहीं चाहिये। ऐसी स्थिति में अपने दिमाग को खुला रखें, निडर रहें और रोने या गिडगिडाने के बजाय अपनी सूझबूझ से उस हमले से बचने का रास्ता ढूंढें।

इसे भी पढ़ें :-  महिलाओं के लिये छेड़छाड़ से बचने और अपनी सुरक्षा खुद करने के 12 उपाय

जो महिलायें छेड़छाड़ का विरोध नहीं करती हैं या आसानी से बहकावे में आ जाती हैं या किसी अनहोनी या हमले की  स्थिति में रोने या गिडगिडाने लग जाती हैं तो इससे अपराधियों का हौसला और बढ़ जाता है और उस स्थिति में महिलायें उनके लिए एक आसान शिकार बन जाती हैं। अगर आप अपना हौसला बनायें रखती हैं और जवाबी हमला करती हैं या अपनी सूझबूझ से अपने बचाव की कोशिश करती हैं और मदद के लिए चिल्लाती हैं तो हमलावरों का हौसला पस्त हो जायेगा और आपको बचाव के लिए कोई ना कोई रास्ता या कोई ना कोई मदद जरुर मिल जाएगी।

हमले या किसी ऐसी स्थिति के समय जो सबसे जरुरी चीज ध्यान रखनी है वो है कि किसी भी स्थिति में डरें नहीं, अपने ऊपर भरोसा रखें, आत्मविश्वास बनायें रखें, हिम्मत से काम लें। तभी आप हर स्थिति का सामना कर सकती हैं और अपनी सुरक्षा कर सकती हैं। अगर आप डर जायेंगी तो आप हिम्मत से अपराधियों का सामना नहीं कर पायेंगीं जिससे उनका हौंसला बढ़ जायेगा और आपको चोट पहुँचा देंगे। ऐसी किसी भी स्थिति में आपको अपना हौंसला बनाये रखना है और अपराधियों का हौंसला तोड़ देना है। और ये बात हमेशा ध्यान रखें कि आपको अपनी सुरक्षा खुद ही करनी हैं।

आज मैं Gyan Versha  के माध्यम से आपको कुछ ऐसे तरीके बताने जा रहा हूँ जो आपके साथ होने वाली किसी भी अनहोनी या हमले की स्थिति में आपकी मदद करेंगें।

ध्यान देने वाली कुछ जरुरी बातें। 

  1. आपको किसी भी स्थिति से कभी भी लापरवाह नहीं होना चाहिए। आपको किसी भी स्थिति के लिए पहले से ही पूरी तरह तैयार रहना चाहिए और अपने दिमाग में ये पहले से ही ये सोचकर रखें कि हमले की स्थिति में आप अपना बचाव कैसे करेंगी? अगर आपने हर स्थिति के बारे में पहले से सोचकर रखा होगा तो हालात से निबटना आसान होगा।
  2. ध्यान रखें कि आपका मकसद अपराधी से मुकाबला करना या बहादुरी दिखाना नहीं है। आपका मकसद अपनी हिफाजत करना है और कोई मदद मिलने तक हमलावर को रोके रखना है।
  3. पुलिस और परिजनों का नंबर मोबाइल में स्पीड डायल पर रखें। किसी भी तरह की गड़बड़ी का शक होने पर फौरन नंबर डायल करें। अगर बोलने का मौका ना मिले तो भी फोन को ऑन रखें ताकि जिसको आपने फ़ोन किया है वो आपकी आवाज, चीख या हमले की स्थिति को सुन सके और समझ सके और आपको समय पर मदद पहुंचा सके।
  4. हमले की स्थिति में कभी भी अँधेरे या सुनसान जगह की ओर ना भागें। ऐसा करना आपके लिए ज्यादा खतरनाक हो सकता है और हमलावर के लिए आपको अपना शिकार बना लेना और वहाँ से बचकर निकलना ज्यादा आसान होगा। हमेशा उजाले और भीड़भाड़ वाली जगह की ओर भागें जहाँ से आपको जल्दी मदद मिल सकती है और हमलावर भी पकड़ में आ सकता है।
  5. हमले की स्थिति में आपनी ताकत और हमलावर की कमजोरी को पहचानने की कोशिश करें। अपने आस पास की उन चीजों पर गौर करें जिनका इस्तेमाल आप अपने बचाव में कर सकती हैं जैसे- डियोड्रेंट, मिर्च स्प्रे, परफ्यूम, पिन, पर्स, छाता, डंडा, सेंडल आदि। और हमलावर की उस कमजोरी को पहचानने की कोशिश करे जहाँ पर आप हमला कर सकती हैं जैसे- उसका प्राइवेट पार्ट, आँखें, नाक, थोड़ी, सिर, घुटना, पेट या छाती आदि।
  6. आत्मकुशल बनें। रेप या किसी ऐसे ही हमले से निपटने के लिए जरुरी ट्रेनिंग लें। रोजाना दौड़ने की प्रैक्टिस करें। अपनी दौड़ को मजबूत बनायें। आत्मरक्षा पर लिखी कोई किताब पढ़ें। YouTube पर रेप या हमले से बचाने वाले वीडियो देखें।   

हमले की स्थिति में अपना बचाव कैसे करें?

अगर आपको हमलावर ने पकड़ लिया है या आप पर हमला कर दिया है या आपको एहसास हो गया है कि आप पर हमला होने वाला है तो डरें नहीं, घबरायें नहीं। उससे छोड़ देने की भीख मांगने या गिडगिडाने के बजाय तुरंत जवाबी हमला करें  और सूझबूझ से खुद को बचाने का प्रयास करें। नीचे बताये गए तरीकों से आप अपने आपको हमलावर से बचा सकती हैं।

1. क्या करें जब आप घर पर अकेलीं हों और कोई हमला कर दे?

अगर आप घर पर बिलकुल अकेली हैं और कोई आपके साथ छेड़छाड़ करने की कोशिश करे या लूटने की कोशिश करे या आप पर हमला कर दे तो बिल्कुल भी घबरायें नहीं और डरें नही। ऐसी स्थिति में मदद के लिए चिल्लाते हुए घर से बाहर निकलने की कोशिश करें। क्योंकि घर से बाहर आपको ज्यादा मदद मिल सकती है। अगर बाहर निकलना मुमकिन नहीं हो तो kitchen  की तरफ भागें और वहाँ रखे चाकू, पिसी मिर्च, चिमटा, काँटा आदि से जवाबी हमला करें। और साथ में जो भी हाथ में आये उसे हमलावर पर दे मारें, प्लेटों को जोर जोर से फेंकें, भले ही वे टूट जाएँ लेकिन फेंकती रहें और मदद के लिए चिल्लाती रहें। तोड़फोड़ और शोरगुल से हमलावर पकड़े जाने के डर से भाग जायेगा।

2. क्या करें जब आप ऑटो या टैक्सी में अकेली हों और ड्राईवर गाड़ी को गलत रास्ते पर मोड़ दे या रोके नहीं?  

  1. अगर आप रात में या किसी भी समय अकेले ऑटो या टैक्सी में सफ़र कर रहीं हैं और ड्राईवर गाड़ी को गलत रास्ते की ओर मोड़ देता हैं या सुनसान या अँधेरे वाले रास्ते से ले जाता है तो बिना घबराये सख्ती से उससे मना करें और सही रास्ते से चलने के लिए कहें। अगर ड्राईवर जल्दी पहुँचने के लिए या समय या जाम या किसी और बात का बहाना करके गलत रास्ते से चलता है तो कहीं safe सी जगह देखकर ऑटो या टैक्सी को रुकवा दें और उसमें से उतर जायें और अपने घरवालों या किसी मित्र को सूचना दें।
  2. अगर आपके मना करने के बावजूद ड्राईवर सही रास्ते से नहीं चलता है या गाडी की स्पीड बढ़ा देता है या गाड़ी नहीं रोकता है और आपको खतरा महसूस होने लगता है तो कोई safe  सी जगह देखकर बिना डरे अपने दुपट्टे या अपने पर्स के हैंडल को उसले गले में लपेटकर अपनी तरफ खींचें और मदद के लिए चिल्लायें। ऐसे में ड्राईवर असहाय हो जायेगा और आपको गाड़ी से उतरने का मौका मिल जायेगा।
  3. अगर आपके पास पर्स या दुपट्टा ना हो तो भी घबराये नहीं और पूरी ताकत से उसकी कमीज के कालर को पकड़ कर अपनी तरफ खींचे जिससे उसकी गर्दन पर दबाव बनेगा और वो गाड़ी को धीमा कर देगा। गाड़ी धीमी होते ही उतरकर भाग जायें और मदद के लिये चिल्लायें।

3. क्या करें जब कोई आपका रेप करने की कोशिश करे?

  1. अगर कोई आपका रेप करने की कोशिश कर रहा है तो रोने गिडगिडाने के बजाय अपने आपको उससे छुड़ाने की कोशिश करें। अगर आप डर जायेंगीं या रोने लगेंगी तो अपराधी का हौसला बढ़ जायेगा और वो आपको आसान सा शिकार बना लेगा। अगर आप उससे संघर्ष करेंगी और जवाबी हमला करेंगी तो आप हमलावर से खुद को बचा सकती हैं।
  2. अगर आप अपराधी के नीचे हैं और अपराधी आपके ऊपर है और उसने आपके दोनों हाथों को पकड़ रखा है तो अपनी टांगों पर जोर डालकर पलटी मार जायें जिससे अपराधी आपके नीचे आ जायेगा। फिर आप अपने घुटने से उसके प्राइवेट पार्ट पर जोरदार वार करें। जिससे उसकी पकड़ ढीली हो जायेगी। फिर आप उसकी आँखों या नाक मुँह पर जोरदार वार कर सकती हैं। उसके बाद वहां से भाग जायें और मदद ले लिए चिल्लायें। (नीचे दिए गए वीडियो को ध्यान से देखें।)

    1. अगर आप अपराधी के नीचे हैं और अपराधी आपके ऊपर है और उसने आपकी गर्दन को पकड़ रखा है तो उसके हाथो को पकड़कर अपने हाथों और अपनी टांगों पर जोर डालकर पलटी मार जायें जिससे अपराधी आपके नीचे आ जायेगा। फिर आप अपने घुटने से उसके प्राइवेट पार्ट पर जोरदार वार करें। जिससे उसकी पकड़ ढीली हो जायेगी। फिर आप उसकी आँखों या नाक मुँह पर जोरदार वार कर सकती हैं। उसके बाद वहां से भाग जायें और मदद ले लिए चिल्लायें। (नीचे दिए गए वीडियो को ध्यान से देखें।)

    1. अगर आप अपराधी के नीचे हैं और अपराधी आपके ऊपर है और आपके हाथ फ्री हैं तो अपराधी की कमीज या टीशर्ट को नीचे से पकड़कर roll करके उसकी गर्दन में कस दें। जिससे उसका गला घुट जायेगा और उसकी पकड़ ढीली हो जायेगी। फिर आप उसकी आँखों या नाक मुँह पर जोरदार वार कर सकती हैं। उसके बाद वहाँ से भाग जायें और मदद ले लिए चिल्लायें। (नीचे दिए गए वीडियो को ध्यान से देखें।)

4. क्या करें जब हमलावर पीछे से आये या आपको पीछे से पकड़ ले?

  1. अगर हमलावर ने आपको पीछे से पकड़ लिया है तो बिना समय गंवाये अपनी कोहनी से जोरदार तरीके से हमलावर के पेट या सीने पर वार करें। अगर हाई हील पहन रखी है तो उससे उसके पैर पर हमला करें। इससे हमलावर की पकड़ ढीली हो जाएगी। जब उसकी पकड़ ढीली हो जाये तो अपने आप को छुड़ाकर वहाँ से भागने की कोशिश करें और शोर मचाकर मदद के लिए चिल्लायें।

woman attacked from behind (Image Source: Shutterstock)

safety tips if attack from behind

  1. अगर कोई बस में पीछे से आकर हाथ पकड़ ले या कमर पर हाथ रखने की कोशिश करे तो अपनी कोहनी से फौरन पीछे की ओर उसके पेट पर वार करें। हाई हील पहन रखी है तो उससे उसके पैर पर भी हमला कर सकती हैं। और अगर पकड़ में आ जाये तो थप्पड़ भी लगा सकती हैं। आसपास के लोगों से उसकी छेडछाड की शिकायत भी कर सकती हैं।

5. क्या करें जब हमलावर सामने से आये?

  1. अगर हमलावर ने आपको सामने से पकड़ लिया है या सामने से आप पर हमला कर दिया है तो हमलावर के कंधे या गर्दन को जोर से पकड़कर अपने पैर के घुटने से हमलावर के प्राइवेट पार्ट्स या पेट पर जोरदार तरीके से वार करें।

woman-fighting-off-attacker

(Image Source: Shutterstock)

  1. उसके बाद हमलावर को बिना कोई मौका दिए तुरंत अपने मुक्के या कोहनी से या दोनों हाथों को जोड़कर हमलावर के मुँह, नाक, आँख और ठुड्डी पर वार करें। इन जगहों पर वार करने पर सबसे ज्यादा दर्द होता है।
  2. हमलावर की आंखों पर डीओड्रेंट स्प्रे करें। कुछ देर के लिए वह आंखें नहीं खोल पाएगा और आपको अगला कदम उठाने का मौका मिल जाएगा। एयर-फ्रेशनर व परफ्यूम को भी इसी तरह इस्तेमाल कर सकती हैं।
  3. पिपर स्प्रे (मिर्च का स्प्रे) रखें। थोड़ा भी शक होने पर तुरंत निकालकर हाथ में थाम लें। जरूरत पड़े तो हमलावर की आंखों पर निशाना लगाकर स्प्रे करें। यह मार्केट में करीब 300-350 रुपये में मिल जाता है।

6. क्या करें जब हमलावर दोनों हाथों से गर्दन पकड़ ले?

अगर हमलावर ने अपने दोनों हाथों से आपकी गर्दन को पकड़ लिया है तो अपने दोनों हाथों को उसके हाथों के बीच लाएं और जोर-जोर से अंदर बाहर को करें। इससे उसकी पकड़ छूट जाएगी। इसके बाद उसके शरीर के नाजुक हिस्सों पर वार करें।

choke-defence

7. क्या करें जब किसी  ने आपकी कार रोक ली हो?

अगर आप कार में हैं और किसी ने आपकी कार रोक ली है और आसपास कोई नहीं दिख रहा है तो कार से उतरकर भागें नहीं। गाड़ी के दरवाजे और खिड़कियां लॉक कर लें और अंदर ही बैठी रहें। फौरन 100 नंबर पर या अपने परिचितों या महिला हेल्पलाइन नंबरों को डायल करें। लगातार हॉर्न बजाती रहें। इससे लोगों से ध्यान उस ओर जाएगा। अगर कोई दिख जाए तो मदद को चिल्लाएं।

8. क्या करें जब कोई कार से आपका पीछा कर रहा हो?

अगर कोई दूसरी गाड़ी आपकी कार का पीछा कर रही है तो स्पीड बढ़ा लें। लगातार हॉर्न बजाती रहें और पुलिस चौकी पर जाकर रुकें। अगर चौकी नहीं मिलती तो थियेटर, अस्पताल या मॉल जैसे पब्लिक प्लेस पर जाकर रुकें और मदद मांगें। सीधे अपने घर ना जाएं।

9. किसी भी तरह के हमले में हमलावर की आँखों पर वार करें।

अगर हमलावर ने आप पर हमला कर दिया है या किसी भी तरह से पकड़ लिया है तो अपनी उँगलियों या हाथ के अंगूठे से उसकी आँखों पर वार करें। आँखे शरीर का सबसे संवेदनशील अंग होती हैं। इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि सामने वाला हमलावर कितना ताकतवर है अगर आपने जोरदार तरीके से उसकी आँखों पर वार कर दिया है तो वो दर्द से तड़प उठेगा और बिलकुल असहाय हो जायेगा। और आपको वहाँ से भागने का मौका मिल जायेगा।

attack in eye

10. इन हथियारों को आप अपने बचाव में इस्तेमाल कर सकती हैं।

  1. नाखून बड़े हैं तो उनसे हमलावर के मुँह पर वार करें।
  2. बेल्ट से भी जोरदार वार कर हमलावर को चोट पहुंचा सकती हैं।
  3. हाई हील पहन रखी है तो तुरंत निकालकर हमलावर के चेहरे पर जोर से मारें।
  4. नेल फाइलर, नेलकटर, पेपर कटर से जोरदार हमला किया जाए तो काफी असरदार हो सकता है।
  5. पर्स को घुमाकर कसकर हमलावर के मुंह पर मारें। अगर छाता है, तो उससे जोरदार हमला करें।
  6. अगर आसपास पत्थर दिख जाए तो दुपट्टे में रखकर घुमाकर मारें। हमलावर पास नहीं आएगा।
  7. जूड़े की पिन, सेफ्टी पिन, पेन, डायरी या फोर्क कुछ भी है तो उससे हमला करें। ये छोटी-छोटी चीजें गहरी चोट पहुंचाती हैं।

11. इन हिस्सों पर वार करने पर सबसे ज्यादा दर्द होता है।

  1. आंखें, नाक, चेहरा, सिर या ठुड्डी।
  2. सोलर प्लेक्सेज़ (जहां पसलियां मिलती हैं और पेट शुरू होता है)।
  3. प्राइवेट पार्ट्स (यहां जोर से लगने से जान भी जा सकती है)।
  4. पेट में और घुटनों के पीछे कुहनी और घुटने से मारें तो हमलावर को चोट ज्यादा लगेगी।

अलग अलग राज्यों में महिलाओं के लिए कुछ हेल्पलाइन नंबर्स

दोस्तों, अंत में मैं बस एक ही बात कहूँगा कि चाहे किसी भी तरह की स्थिति हो अगर आप अपना हौसला खो देती हैं, हिम्मत हार जाती हैं या डर जाती  हैं तो उस स्थिति में आप कभी भी उस मुश्किल, उस मुसीबत से नहीं निकल  सकती हैं । और तब एक आसान सा शिकार बन जाती हैं। बस ये बात ध्यान रखें कि आपको किसी ऐसी मुसीबत में एक आसान शिकार नहीं बनना है। आपको अपनी हिफाजत करनी है, अपना बचाव करना है, बिना डरे, बिना हिम्मत खोये, सूझबूझ दिखाते हुए आपको तब तक संघर्ष करना है जब तक आप अपने आपको बचाने में कामयाब नहीं हो जाती हैं या आपको कोई मदद नहीं मिल जाती है।

ऊपर बताये गए तरीकों को ध्यान से पढ़ें। दिए गए वीडियो, इमेजों को ध्यान से देखों और आत्म कुशल बनो। अपनी रक्षा खुद करो। डरने वाली नहीं, डराने वाली बनो।   

Related Posts :


“आपको ये  आर्टिकल कैसा लगा  , कृप्या कमेंट के माध्यम से  मुझे बताएं ………धन्यवाद”

“यदि आपके पास हिंदी में  कोई  Life Changing Article, Positive Thinking, Self Confidence, Personal Development,  Motivation , Health या  Relationship से  related कोई  story या जानकारी है  जिसे आप  इस  Blog पर  Publish कराना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो और  details के साथ  हमें  gyanversha1@gmail.com  पर  E-mail करें।

पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. ………………धन्यवाद् !”

—————————————————————————————————–

दोस्तों ये ब्लॉग लोगो की सेवा के उद्देश्य से बनाया गया है ताकि इस पर ऐसी पोस्ट प्रकाशित की जाये जिससे लोगो को अपनी ज़िंदगी में आगे बढ़ने में मदद मिल सके ……… अगर आपको हमारा ये ब्लॉग पसंद आता है और इस पर प्रकाशित पोस्ट आपके लिए लाभदायक है तो कृपया इसकी पोस्ट और इस ब्लॉग को ज़्यादा से ज़्यादा Share करें ताकि ज़्यादा से ज़्यादा लोगो को इसका लाभ मिल सके………
और सभी नयी पोस्ट अपने Mail Box में प्राप्त करने के लिए कृपया इस ब्लॉग को Subscribe करें।

नए पोस्ट अपने E-mail पर तुरंत प्राप्त करने के लिए यहाँ अपना नाम और E-mail ID लिखकर Subscribe करें।

About Pushpendra Kumar Singh 154 Articles
Hi Guys, This is Pushpendra Kumar Singh behind this motivational blog. I founded this blog to share motivational articles on different categories to make a change in human livings. I love to serve the people and motivate them.I love to read and write motivational things. Be friend with Pushpendra at Facebook Google+ Twitter

12 Comments

  1. रेप समाज के लिए ज़हर की तरह है जो इसेे अन्दर ही अन्दर चाटता चला जा रहा है।
    बहुत अच्छे अच्छे टिप्स दीये हैं आपने

  2. रेप, छेड़खानी का विरोध करने के लिए आपने शानदार पोस्ट लिखी है। इससे सभी को बहुत फायदा मिलेगा।

  3. आपकी इस पोस्‍ट के बारे में अब मैं क्‍या कहूं। इसकी जितनी तारीफ की जाए कम है। हमारे देश की आधी आबादी बहुत ही खतरों के बीच निवास करती है। घर से लेकर बाहर सड़क तक कहीं भी महिलाएं सु‍रक्षित नहीं है। और तो और पुलिस स्‍टेशन में भी नहीं। आपकी यह पोस्‍ट निसंदेह महिलाओं का हौसला बढ़ाने और खतरों से निपटने में मदतगार साबित होगी। बस इतना ही कह सकता हूं।

  4. महिलाओं की सुरक्षा हेतु बहुत ही उपयोगी उपाय बताएं है आपने। इनकी मदद से कुछ हद तक अपराध कम किए जा सकते है।

  5. Bahut hi useful article…..Hamare desh me rape ki ghatnayen bahut bad gai hain….ese me mahilayon ko bahut satark rehne ki jarurat hai….aapne har sthiti me hone vale hamlo ke bare me jankaari di hai aur unse bachne ke upay bataye hain….ese aalekh ke liye aapka bahut dhanyabad!

2 Trackbacks / Pingbacks

  1. महिलाओं के लिये छेड़छाड़ से बचने और अपनी सुरक्षा खुद करने के 12 उपाय | Gyan Versha
  2. ट्रायल रूम, होटल, बाथरूम में छिपे हुए कैमरों का पता कैसे लगायें | Gyan Versha

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*