अपनी जिन्दगी को बेहतर बनाने के लिये करें ये 15 काम

If you like this article, Please Share it on

अपनी जिन्दगी को बेहतर बनाने के लिये करें ये 15 काम। (15 things you should do to improve your life.)

हर इन्सान के अपनी जिन्दगी जीने के अलग अलग तरीकें हैं। इन्सान जिस जगह से, जिस माहौल से belong करता है, उसका रहन सहन, उसका पहनावा, उसका खाना पीना, उसकी  भाषा, उस जगह के अनुसार ही हो जाती है। हर इन्सान की अपनी अपनी जरूरतें हैं और उन्ही जरूरतों को पूरा करने के लिये हर इन्सान सुबह से लेकर शाम तक भागदौड़ करता है। ऐसे बहुत से लोग हैं जिनकी जिन्दगी, daily life सिर्फ रोजाना 8 से 10 घंटे काम, खाना और सोना बनकर ही रह गयी है और वे ऐसी ही जिन्दगी गुजार कर इस दुनिया से चले जाते हैं। ऐसे लोग अपनी जिन्दगी के लिये कुछ नया, कुछ खास नहीं कर पाते हैं।

 

15 things you should do to improve your life

 

दोस्तों हमारी जिन्दगी का मकसद सिर्फ 8 से 10 घंटे का काम, खाना और सोना नहीं है या सिर्फ अपनी जरूरतें पूरी करना ही नहीं है। खाना- पीना, सोना और जरूरतें पूरी करना, ये काम तो पशु भी कर लेते हैं। पर क्या ये जिन्दगी को जीना है? ये जीना नहीं है। ये जिन्दगी को गुजारना है। आप अपनी जिन्दगी को पशुओं की तरह ना गुजारें।

इसे भी पढ़ें :- 57 सवाल जो निश्चित रूप से आपकी जिन्दगी को बदल देंगे

ईश्वर ने इंसानों को सोचने, समझने और महसूस करने का गुण दिया है। जिससे इन्सान सोचकर, समझकर और महसूस करके अपना अच्छा बुरा समझ सकता है, अपने जीने के तरीके को बेहतर बना सकता है, अपनी जिन्दगी में नयापन ला सकता है, अपनी जिन्दगी को यादगार बना सकता है, अपनी जिन्दगी को बदल सकता है।

आज मैं आपको ऐसे ही 15  कामों के बारे में बता रहा हूँ जो आपकी जिन्दगी को बेहतर बनाने में आपकी मदद करेंगें।

1. मुस्कुराहट को अपनी आदत बना लीजिए (Make a habit to be happy)

ये बात वैज्ञानिक तरीके से भी साबित हो चुकी है कि मुस्कुराने से, दिल खोलकर हँसने से बहुत सी बीमारियों से बचा जा सकता है। हँसना, मुस्कुराना एक व्यायाम (exercise) है जो एक दवाई (medicine) की तरह काम करता है। दिन कम से कम 10 – 12 बार खुलकर हँसे।  अपनी हर छोटी से छोटी कामयाबी की खुशियाँ मनाएं। आप जब भी किसी से मिलें, किसी से बात करें तो मुस्कुराएँ। हँसने वाली बात पे दिल खोलकर हँसे। हँसने, मुस्कुराने का माहौल बनायें। हँसने, हँसाने के बहाने ढूँढे। जोक्स, चुटकले पढ़े और दूसरों को भी सुनायें। आपके चेहरे की मुस्कुराहट दूसरों के चेहरे पे भी मुस्कुराहट ला देगी। यह एक free of cost gift है जो आप दूसरों को देते हैं। हँसने, मुस्कुराने को अपनी जिन्दगी का एक हिस्सा बना लीजिये। एक आदत बना लीजिये। हँसने मुस्कुराने से, हमेशा खुश रहने से आप अपने आपको हर एक पल ऊर्जावान महसूस करेंगे, तरोताजा महसूस करेंगे, tension free महसूस करेंगे। जिससे आप हर काम को पूरी क्षमता और लगन से करेंगे।

इसे भी पढ़ें :- जिन्दगी में आगे बढ़ना है तो ये 12 काम आपको तुरन्त छोड़ देनें चाहिए

2. नकारात्मकता को अपनी जिन्दगी से निकाल फेकियें(Let go of negativity from your life.)

नकारात्मकता को अपनी जिन्दगी से पूरी तरह से निकाल कर फेंक दीजिये। आपकी जिन्दगी आपके विचारों से ही झलकती है। जैसे आपके विचार होंगे वैसी ही आपकी जिन्दगी होगी, वैसा ही आपका व्यक्तित्व (personality) होगा। इसलिये चाहे कितनी भी बुरी स्थिति हो, चाहे कितनी भी मुश्किलें, मुसीबतें आयें, कभी भी negative ना सोचें। नकारात्मक विचारों को, negative बात करने वाले लोगों को अपनी जिन्दगी से पूरी तरह दूर कर दें। हमेशा positive रहें और positive बात करने वाले लोगों को अपनी जिन्दगी में जगह दें। हर मुश्किल, हर मुसीबत का हिम्मत से, द्रढ़ता से सामना करें और सकारात्मक होकर अपनी मंजिल को पाने के लिए मेहनत करते रहें।

इसे भी पढ़ें :- Rejection को Handle करने के 8 तरीके

3. नयी चीजे सीखने की आदत डालिये (Make a habit to learn new things.)

हमारा दिमाग असीमित जानकारियों को ग्रहण करने की क्षमता रखता है। अपने दिमाग को खुला रखिये। कुछ नया सीखने की आदत आपकी जिंदगी को उत्साह से भर देती है। नये नये काम करते रहिये। नयी नयी चीजें सीखिये। नयी भाषा सीखिये या रोजाना vocabulary का एक नया word सीखिये। अपनी vocabulary or communications skills को improve कीजिये। अपने career से related नये coarse कीजिये, अपनी skills को बढाइये। कोई musical instrument बजाना सीखिये। singing, dancing, writing, तैरना, खाना बनाना, hand made crafting आदि बहुत कुछ है सीखने के लिए, जो आपको नहीं आता है। कुछ नया सीखने की आदत से एक तो आप जिन्दगी में नयी नयी चीजें सीखते हैं जिससे आपकी जानकारियाँ बढती हैं, आपका ज्ञान बढ़ता है, social values बढती हैं  और जिन्दगी में उत्साह और ऊर्जा बनी रहती है। जो आपके stress level को कम करती है और आपको mentally strong बनाती है।

इसे भी पढ़ें :- 75 विचार जो आपके सोचने का नजरिया बदल देंगे

4. दूसरों से खुद की तुलना ना करें (Don’t compare yourself to Others.)

हर इंसान की अपनी अलग जिन्दगी है। सबकी अलग अलग योग्यता और strengths हैं। सब अपनी मेहनत और योग्यता से अपनी सुख सुविधायें अर्जित करते हैं। इसलिये किसी भी मामले में, किसी भी चीज को लेकर दूसरों से अपनी तुलना ना करें। किसी से ईर्ष्या ना करें। जब भी आप उन लोगों से अपनी तुलना करेंगे जो आपसे ऊपर हैं, आपसे बेहतर स्थिति में हैं तो आप परेशान होंगे, दुखी होंगे और ईर्ष्या करने लगेंगे और जब भी आप उन लोगों से अपनी तुलना करेंगे जो किसी भी मामले में आपसे कम हैं तो आप अहंकार से भर जायेंगे। और दोनों ही situations आपके लिए नुकसानदायक हैं। इसलिये जो कुछ भी, जितना भी आपके पास है उसे लेकर अहंकार (ego) ना करें और जो आपके पास नहीं है उसके लिये परेशान या दुखी ना हों। आपके पास जो कुछ भी है, जितना भी है उसी में खुश और संतुष्ट रहें। और जिस चीज को पाने की आप चाहत रखतें हैं, ख्वाहिश रहते हैं उसके लिये अपनी योग्यता बढायें, अपने आपको उस लायक बनायें, उस योग्य बनायें, उस काबिल बनायें कि आप उस चीज को अपने मेहनत और ईमानदारी से पा सकें।

5. रोजाना एक अच्छा काम करने की आदत डालें (Make a habit to do a good thing everyday.)

रोजाना कोई भी एक ऐसा काम करने की आदत डालिये, जिससे आपको खुशी मिलें। जिससे दूसरों का भला हो, दूसरों को फायदा पहुँचे। कोई भी एक अच्छा काम रोजाना कीजिये। जैसे – किसी भूखे को खाना खिलाना, किसी गरीब की मदद करना, किसी बुजुर्ग को सड़क पार करवाना, बस या ट्रेन में सफ़र करते समय किसी महिला या बुजुर्ग को शीट दे देना, अपनी गाड़ी से किसी को lift देना, पक्षियों को दाना डालना, किसी बीमार व्यक्ति की सेवा करना, गरीब बच्चों को पढाना, किसी का कोई काम कर देना, अपने माता पिता या घर के बुजुर्ग के पैर दबा देना आदि ऐसे बहुत से काम हैं जो आप कर सकते हैं। और जब ये काम आप दिल से करेंगे तो आपको अन्दर से बहुत खुशी होगी, सच्चा सुकून मिलेगा और बदले में आपको बहुत सा प्यार और दुआएं मिलेंगी। और आप एक अच्छे इन्सान बन जायेंगे।

6. हर छोटी से छोटी कामयाबी का जश्न मनाएं (Celebrate your every little success, achievements.)

अपनी हर छोटी से छोटी सफलता के लिए, अपनी हर छोटी से छोटी कामयाबी के लिए, अपनी अपनी हर छोटी से छोटी उपलब्धि के लिए खुद को शाबाशी दें। अपनी खुद की पीठ थपथपाएं। अपनी हर सफलता का, हर खुशी का जश्न मनाएं। रोजाना अपनी उपलब्धियों को याद करें। ये काम आपको रोजाना उत्साह से भर देगा और जिन्दगी में और भी बड़े काम करने के लिए प्रेरित करेगा।

7. विनम्र बनें, सभ्य बनें, ईमानदार बनें (Be Polite, Be Gentle, Be Honest.)

स्वभाव से विनम्र तथा व्यवहार से सभ्य बनें। लोगों से आपके मिलने का तरीका, आपकी बातचीत करने का तरीका ही उनकी नजर में आपको अच्छा या बुरा बनाता है। अगर आप दूसरों के साथ कठोरता से पेश आयेंगें, उनसे रुखा व्यवहार करेंगें या असभ्य व्यवहार करेंगें तो कोई भी आपको पसंद नहीं करेगा। जरुरत के समय कोई आपके साथ नहीं आएगा। कोई आपकी मदद नहीं करेगा। इसलिए लोगो से शालीनता से मिलें। जिससे भी मिलें ऐसे मिलें कि वो आपको कभी न भूल पाये। अपने व्यवहार को विनम्र तथा सभ्य रखें। ईमानदार बनें। किसी से ईर्ष्या या जलन ना रखें। किसी के साथ भी पक्षपात ना करें। घमंड न करें, झूठ ना बोलें, किसी का बुरा ना सोचें, किसी का बुरा ना करें। सबको एक ही नजर से देखें, सबके साथ एक जैसा व्यवहार करें।

8. अपनी जिन्दगी में लक्ष्य बनाइयें (Make a goal for your life.)

किसी भी चीज़ के लिए लक्ष्य बनाना हमें उस चीज़ पे focus करने में मदद करता है। लक्ष्य हमें किसी काम को करने का उद्देश्य बताता है और उस काम को करने के लिए दिशा निर्धारण करता है। इसलिए अपनी जिन्दगी का एक मुख्य लक्ष्य बनाइये कि आपको जिंदगी में करना क्या है? आपको जिन्दगी में बनना क्या है? आप जिंदगी में क्या पाना चाहते हैं? फिर उस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए, अपने मुकाम को हासिल करने के लिए, अपनी मंजिल तक पहुँचने के लिए अपनी जिन्दगी के हर क्षेत्र में छोटे छोटे लक्ष्य बनाइये। फिर एक एक करके, धीरे धीरे, मेहनत से उन छोटे छोटे लक्ष्यों को हासिल कीजिये। फिर देखते ही देखते आप अपने बड़े लक्ष्य को भी प्राप्त कर लेंगे, अपनी मंजिल को प्राप्त कर लेंगे।

9. दूसरों से ज्यादा उम्मीदें ना रखें। (Don’t expect too much from others.)

अपेक्षा रखना यूँ तो स्वभाविक गुण है और कुछ हद तक रखनी भी चाहिये, वर्ना बिना अपेक्षाओं और उम्मीदों के जिन्दगी बेरंग हो जायेगी। लेकिन जब हम दूसरों से कुछ ज्यादा ही अपेक्षायें रख लेते हैं या कुछ ज्यादा ही उम्मीदें लगा लेते हैं तो यही अपेक्षायें हमारे दुखों का कारण भी बनती हैं। जब कोई हमारी अपेक्षाओं को पूरा करता है या जैसा हम चाहते हैं वैसा ही करता है तो हमें खुशी होती है लेकिन जब हमारी अपेक्षायें पूरी नहीं होती है तो हम दुखी हो जाते हैं,  व्यथित हो जाते हैं,  अन्दर से टूट जाते हैं।  इसलिए कभी दूसरों से ये अपेक्षा मत रखो कि वो आपसे हमेशा सहमत हों, आपकी हर बात से, हर विचार से सहमत हों, आपके अनुसार काम करें,  वे बिल्कुल perfect  हों या कोई गलती ना करें,  वे आपके लिये बदल जाये, या वे कभी ना बदलें, वे हमेशा आपका साथ दें, वे आपको समझें, वे आपका सम्मान करें, वे आपको हमेशा प्यार करें या वे आपको हमेशा खुश रखें।

इसे भी पढ़ें :- 10 अपेक्षायें जो हमें दूसरों से नहीं रखनी चाहियें

10. आशावादी बनें (Be an optimistic.)

एक निराशावादी (pessimist) व्यक्ति को हर अवसर (opportunitiy) में मुश्किलें, कठिनाइयाँ ही दिखाई देती हैं जबकि एक आशावादी (optimistic) व्यक्ति को हर मुश्किल, हर कठिनाई में भी एक अवसर दिखाई देता है। आशावादी व्यक्ति का जीवन संभावनाओं से भरा होता है। वो हर एक मुश्किल से, हर मुसीबत से बाहर निकलने का रास्ता ढूँढ लेता है। आशावादी हर चीज को, हर बात को सकारात्मक नजरिये से देखता है। उसे हर परिस्थिति में संभावनायें नज़र आती हैं। इसलिए आशावादी बनें। चाहे कितना भी बुरा वक्त हो, चाहे कितनी भी मुश्किलें हो, चाहे कितनी भी विपरीत परिस्थितियाँ हो उम्मीदों का दामन कभी ना छोड़ें, आशाओं की किरणों को कभी फीकी ना पड़ने दें। जिंदगी की हर समस्या पर सकारात्मकता के साथ विचार करें, आपको रास्ते मिलने लगेंगे।

11. पारिवारिक और सामाजिक जिम्मेदारियों को निभायें (Understand your family and social responsibilities.)

आप चाहे किसी भी उम्र के हो, अपनी उम्र के हिसाब से अपनी सभी जिम्मेदारियों को जिम्मेदारी के साथ निभायें। कभी भी अपनी जिम्मेदारियों से दूर नहीं भागें। हर इंसान के साथ बहुत सी जिम्मेदारियाँ होती हैं, जैसे घर परिवार की जिम्मेदारी, बच्चों की जिम्मेदारी, नौकरी की जिम्मेदारी, सामाजिक जिम्मेदारी आदि। हमें अपनी हर एक जिम्मेदारी को जैसे, माता पिता तथा बड़े बुजुर्गो की सेवा करना, अपने बच्चो को अच्छे संस्कार तथा अच्छी शिक्षा देना, अपने बच्चों, पति या पत्नि का ख्याल रखना तथा उनके हर सुख, दुःख में हर कदम पर साथ देना, अपने भाई-बहनों को प्यार और महत्व देना, अपने मित्रों, पड़ोसियों, रिश्तेदारों के सुख दुःख में शामिल होना, अपने देश तथा कानून की रक्षा करना तथा उसका पालन करना आदि को पूरी ईमानदारी के साथ निभाना चाहिए। तभी हम एक जिम्मेदार नागरिक बनेगें तथा तभी हम एक बेहतर इंसान बनेगें।

12. रोजाना व्यायाम करें। (Do exercise daily.)

रोजाना सुबह शाम या जब भी सम्भव हो कुछ देर exercise जरुर करें। आप योगा भी कर सकते हैं। या तैराकी, साइकिलिंग या दौड़ भी सकते हैं या कम से कम सैर करने तो जरुर जाये। सुबह का शांत वातावरण और शुद्ध तथा ताजी हवा हमारे दिलों दिमाग को तरोताजा कर देती है। व्यायाम करने से माँसपेशियों में उत्तेजना आती है जिससे हमारे अन्दर एक नयी उर्जा का संचार होता है जिससे पूरा दिन energy तथा स्फूर्ति मिलती है। और हम अपने दिन भर के हर काम को पूरी क्षमता और लगन के साथ कर पाते हैं।

13. अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखें। (Take care of your health.)

स्वास्थ्य ख़राब होने पर आप पूरे दिन रूखे रूखे से, बुझे हुए से, उदास, तनावग्रस्त से लगोगे। और कमजोर महसूस करोगे। अगर आपका स्वास्थ्य ठीक नहीं है तो आप किसी भी काम को पूरी क्षमता, मेहनत और लगन से नहीं कर सकते। इसलिए अपनी जिन्दगी को बेहतर तरीके से जीने के लिए आपको अपना स्वास्थ्य और फिटनेस ठीक रखनी पड़ेगी। इसके लिए रोजाना व्यायाम करें, योग करें, रोज सुबह healthy breakfast करें। अपने खाने में हरी पत्तेदार सब्जियों को, फल, दूध, दही, दालें और प्रोटीन से भरपूर चीजों को शामिल करें। रोजाना 6 से 8 घंटे की नींद लें। सुबह जल्दी उठने और रात को जल्दी सोने की आदत डालें। रोजाना कम से कम 8 से 10 गिलास पानी पियें।

14. नशे, बुरी आदतों से दूर रहें। (Keep away from drinking alcohol, smoking and bad habits)

किसी भी चीज का नशा, चाहे वो शराब का हो या धुम्रपान का हो या किसी और चीज का हो, हर तरह से आपकी सेहत के लिए खतरनाक है। WHO की एक रिपोर्ट के अनुसार धूम्रपान की वजह से हर साल लगभग 60 लाख लोग मारे जा रहे हैं। धुम्रपान करने से टीबी, फेफड़ों का कैंसर, मुँह का कैंसर,  ओसोफेजेअल कैंसर, पेट का कैंसर, ब्रॉन्काईटिस,  डेंटल केरीस,  मसूड़ों के इन्फेक्शन आदि भयंकर और खतरनाक बीमारियाँ होती हैं। धूम्रपान से रक्तचाप में वृद्धि होती है,  प्रजनन शक्ति में कमी आती है, रक्तवाहिनियों में रक्त का थक्का बन जाता है। धुम्रपान करने वाले लोगों में धुम्रपान ना करने वाले लोगों की तुलना में मृत्यु दर 2 से 3 गुना अधिक पाई जाती है। ज्यादा शराब पीने से याददाश्त में कमी, अवसाद, चिड़चिड़ापन या मूड में उतार चढ़ाव,  हाइपरटेंशन, कैंसर के ख़तरे में बढ़ोतरी, डिमेन्शिया (मतिभ्रम) के ख़तरे में बढ़ोतरी, यकृत (लीवर) को नुक़सान, दिमाग के तंतुओं का सिकुड़ना, हृदय की मांसपेशियों में कमज़ोरी, पाचन समस्याएँ, यौन विकार, समय से पहले बुढ़ापा, बौद्धिक क्रियाशीलता में गिरावट आदि बीमारियाँ हो जाती हैं। इसलिए धुम्रपान, शराब, हर तरह के नशे से दूर रहें। हर तरह की गन्दी और बुरी आदत को छोड़ दें। गलत और बुरे लोगों की संगत छोड़ दें।

15. रोजाना पढने की आदत डालें। (Make a habit to read something daily.)

पढने से आपके ज्ञान और knowledge में बढ़ोत्तरी होती है। जिससे आप अपनी जिंदगी से जुडी हर चीज को नए नज़रिये से देखना शुरू कर देते हैं और अपनी जिन्दगी को नए नज़रिये से जीना शुरू कर देते हैं। इसलिए रोजाना कुछ ना कुछ नया पढ़ने की आदत डालें। अपनी पसंदीदा किताबें, पत्रिकायें पढ़ें,  News paper पढ़ें, या इन्टरनेट पर कुछ प्रेरणादायक चीजें search करें। Motivational blogs, websites पर लिखे आर्टिकल पढ़ें। सफल लोगो की जीवनी पढ़िए। News paper पढने से रोजाना देश दुनिया के हाल चाल से रूबरू होंगे। किताबें और पत्रिकायें पढने से नयी नयी बातें पता चलेंगी। Motivational blogs, सफल लोगो की जीवनी पढने से अपनी जिंदगी में आगे बढ़ने के लिए प्रेरणा मिलेगी।

दोस्तों, आज जो मैंने अपनी जिंदगी को बेहतर बनाने के लिए ये 15 काम आपको बतायें हैं हो सकता है इनमे से ज्यादातर बातें आपने पहले से पढ़ या सुन रखी होंगी और इनमे से एक या दो काम आप पहले से ही कर भी रहें हों पर एक बात मैं दावे के साथ कह सकता हूँ कि आप ये 15 के 15 काम नहीं कर रहे होंगे। इसलिए सिर्फ सुनने या पढने से ही जिंदगी में बदलाव नहीं आता है। आपको सच में अपनी जिंदगी में बदलाव लाने के लिए, अपनी जिंदगी को पहले से बेहतर बनाने के लिए आपको इन बातो को अपनी जिंदगी में उतारना पड़ेगा। आपको ये काम बिना किसी बहाने के seriously करने ही पड़ेंगे। आपको इन्हें अपनी जिंदगी का एक हिस्सा, एक आदत बनाना पड़ेगा।

अगर आपने एक बार seriously इन बातो पर काम करना शुरू करना दिया तो यकीन मानिये ये आपकी जिंदगी को पूरी तरह से बदल कर रख देगा।

 

Related Articles :-

 


“आपको ये  आर्टिकल कैसा लगा  , कृप्या कमेंट के माध्यम से  मुझे बताएं ………धन्यवाद”

“यदि आपके पास हिंदी में  कोई  Life Changing Article, Positive Thinking, Self Confidence, Personal Development,  Motivation , Health या  Relationship से  related कोई  story या जानकारी है  जिसे आप  इस  Blog पर  Publish कराना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो और  details के साथ  हमें  gyanversha1@gmail.com  पर  E-mail करें।

पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. ………………धन्यवाद् !”

—————————————————————————————————–

दोस्तों ये ब्लॉग लोगो की सेवा के उद्देश्य से बनाया गया है ताकि इस पर ऐसी पोस्ट प्रकाशित की जाये जिससे लोगो को अपनी ज़िंदगी में आगे बढ़ने में मदद मिल सके ……… अगर आपको हमारा ये ब्लॉग पसंद आता है और इस पर प्रकाशित पोस्ट आपके लिए लाभदायक है तो कृपया इसकी पोस्ट और इस ब्लॉग को ज़्यादा से ज़्यादा Share करें ताकि ज़्यादा से ज़्यादा लोगो को इसका लाभ मिल सके………
और सभी नयी पोस्ट अपने Mail Box में प्राप्त करने के लिए कृपया इस ब्लॉग को Subscribe करें।


नए पोस्ट अपने E-mail पर तुरंत प्राप्त करने के लिए यहाँ अपना नाम और E-mail ID लिखकर Subscribe करें।


If you like this article, Please Share it on
About Pushpendra Kumar Singh 160 Articles
Hi Guys, This is Pushpendra Kumar Singh behind this motivational blog. I founded this blog to share motivational articles on different categories to make a change in human livings. I love to serve the people and motivate them.I love to read and write motivational things................... More About Me .....................Follow me on social sites

20 Comments

  1. मैने आपका ब्लॉग “Bloggers Recognition Award” के लिए नामांकित किया है। जिसका लिंक इस प्रकार है “http://www.jyotidehliwal.com/2017/02/bloggers-recognition-award-for-aapki.html”

  2. बढ़िया आर्टिकल share किया . आज के समय में बहुत-से लोगों को यह सब बातें अपनाने की जरूरत है,तभी अच्छा इन्सान बना जा सकता है . 7nth Point एक तरह से सभी का ही निचोड़ है ,पर एक बात जो मैं कहना चाहूँगा कि ऐसा तभी बना जा सकता है ,अगर इन्सान में हर एक जीवों के प्रति दया भाव भी हो . मतलब की पूर्ण रूप से जो शाकाहारी भी हो ,उसके अच्छे होने के chances काफी ज्यादा हो जाते है ,इसका मतलब यह नहीं की सभी शाकाहारी ही अच्छे है या फिर दुसरे अच्छे नहीं . लेकिन शाकाहार से मन में दया भाव पैदा होते है और व्यक्ति सभी जीवों को एक ही परमात्मा की सन्तान मानता है ,और विचारों में सकारात्मकता भी आती है .

    सभी के सभी points बहुत ही बढ़िया ,हर एक को जरुर मानने चाहिए ,सफलता प्राप्ति के लिए भी और अच्छे से जीवन व्यतीत करने के लिए भी .

  3. जिंदगी को बेहतर बनाने के लिए ये सभी टिप्स बहुत काम आएंगे। शेयर करने के लिए धन्यवाद।

  4. क्या खुब लिखा हैं आपनें बस हमारें साथ अपने विचार शेयर करते रहें |
    बहुत अच्छा ब्लोग हैं आपका!
    धन्यवाद!

  5. पुष्पेंद्र जी, सच में बहुत ही बेहतरीन article शेयर किया है आपने। इस article की और आपके लेखनी की जितनी तारीफ की जाये कम है। ऐसे ही शानदार पोस्ट share करते रहें। 🙂 🙂

  6. आपने जो भी टिप्स बताएं है वे सभी एक से पढकर एक है । पढते समय यही लग रहा था कि अरे यह point बहुत उपयोगी है,यह भी उपयोगी है । कहने का तात्पर्य यह है कि लेख को पढकर मन अपने आप चाह रहा है कि मै इसे जीवन मे अपना लूं । अगर सभी टिप्स को बैलेन्स करके चले तो जिन्दगी बहुत खुबसूरती होगी । धन्यवाद इस बेहतरीन post के लिए ।

3 Trackbacks / Pingbacks

  1. ये 6 काम आपकी जिन्दगी बर्बाद कर सकते हैं। | Gyan Versha
  2. 55 तरीकों से बनायें अपनी रोजाना की जिन्दगी को बेहतर। | Gyan Versha
  3. 10 Benefits of reading books | | Gyan Versha

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*