ट्रायल रूम, होटल, बाथरूम में छिपे हुए कैमरों का पता कैसे लगायें ?

ट्रायल रूम, होटल, बाथरूम में छिपे हुए कैमरों का पता कैसे लगायें ? (How to find hidden camera in trial room, hotels or bathroom)

आज का मेरा ये आर्टिकल सिर्फ महिलाओं के लिए ही नहीं है बल्कि उन सब लोगों के लिए है, जिनके घरों में बहन, बेटियां हैं। हमारी बहन बेटियां तथा घर की महिलाएं अक्सर शॉपिंग करने मॉल में जाती हैं लेकिन वहां पर कुछ घटिया मानसिकता वाले लोग उनकी चोरी छिपे कपडे बदलते हुए वीडियो बना लेते है या हमारी बहन बेटियां अक्सर पढाई के सिलसिले में या एग्जाम देने के लिए या अपनी जॉब के सिलसिले में या किसी और कारण से घर से बाहर जाती हैं और उनको घर से दूर होटल में रुकना पड़ता है। लेकिन वहां भी ये घटिया मानसिकता वाले लोग उनकी चोरी छिपे कपडे बदलते हुए या नहाते हुए वीडियो बना लेते है और वीडियो बनाकर पोर्न साइटों को बेच देते हैं।

Cloth Changing

आजकल चोरी छिपे महिलाओं के अश्लील वीडियो बनाकर इन्टरनेट पर डालने की खबर आप न्यूज पर रोजाना सुन सकते हैं। चोरी छिपे धोखे से महिलाओं के अश्लील वीडियो बनाकर इन्टरनेट पर डाल दिये जाते हैं और उनको पता तक नहीं चल पाता है। इसका पता उन्हें तब चलता है जब अश्लील वीडियो सोशल Sites या मोबाइल App (जैसे – Facebook, Google Plus, You Tube या Whatsapp आदि) के द्वारा उनके या उनके परिवार या किसी दोस्त के पास पहुँचते हैं। जिसके कारण उन्हें काफी बदनामी और मानसिक तनाव झेलना पड़ता है। और इस बदनामी की वजह से कई महिलायें आत्महत्या तक कर लेती हैं।

इसे भी पढ़ें :- महिलाओं के लिये छेड़छाड़ से बचने और अपनी सुरक्षा खुद करने के 10 उपाय

दोस्तों मैं काफी दिन से न्यूज पेपर तथा TV News पर देख रहा हूँ कि इस तरह की घटनायें लगातार बढती ही जा रही हैं और इससे मुझे बहुत दुःख होता है कि आजकल लोगों की मानसिकता किस कदर गिरती जा रही है जो थोड़े से पैसों के लालच में दूसरों की बहन बेटियों की इज्जत के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं।

आज Gyan Versha के माध्यम से मैं आप लोगों को बताने जा रहा हूँ कि इस तरह की अश्लील वीडियो कहाँ – कहाँ और क्यों बनाई जाती हैं तथा इस तरह की घटनाओं से कैसे बचा जा सकता है?

चोरी छिपे अश्लील वीडियो कहाँ कहाँ बनायी जा सकती है?

  1. किसी मॉल या शॉपिंग सैंटर के ट्रायल रूम (Changing Room) में।
  2. किसी मॉल, शॉपिंग सैंटर, के बाथरूम में।
  3. होटल के कमरे या बाथरूम में।
  4. किसी पब्लिक प्लेस (जैसे – पेट्रोल पंप , स्कूल, बस अड्डा आदि) के बाथरूम में।
  5. रेस्टोरेंट, सिनेमा हॉल आदि बाथरूम में।

क्यों बनाये जाते है अश्लील वीडियो?

अश्लील वीडियो बनाने वाले महिलाओं की अश्लील वीडियो बनाकर पोर्न साइटों को बेचते हैं। जिससे वीडियो बनाने वाले को कुछ सेकेंड्स से कुछ मिनट तक के एक वीडियो के 40 से 50 हजार रूपये तक मिल जाते हैं तथा वीडियो खरीदने वाली पोर्न साईट इन वीडियो को दिखाकर करोड़ो रूपये कमाती हैं। इसलिए यह गन्दा धन्धा बड़े जोरो से फल फूल रहा है।

इसे भी पढ़ें :-  रेप, हमले या अपहरण से महिलायें कैसे बचें -बचाव के 11 तरीके

कैसे बनाये जाते है चोरी छिपे वीडियो?

किसी महिला का अश्लील वीडियो छिपे हुए कैमरों (गुप्त कैमरों) से बनाया जाता है जिन्हें स्पाई कैमरे कहते है। स्पाई कैमरे इतने छोटे होते हैं कि इन्हें किसी भी चीज में कहीं पर भी फिट किया जा सकता है। और इन्हें आसानी से ढूंढा नही जा सकता है। जब कोई महिला किसी मॉल के ट्रायल रूम में कपड़े बदलती है या किसी पब्लिक टायलेट में जाती है या किसी होटल के बाथरूम में नहाती है तो ये छिपे हुए कैमरे उसकी अश्लील वीडियो बना लेते हैं जिसे बाद में इंटरनेट पर डाल दिया जाता है।

कहाँ कहाँ छिपे हुए हो सकते स्पाई कैमरे?

स्पाई कैमरे किसी होटल के बाथरूम या कमरे तथा किसी मॉल के ट्रायल रूम या बाथरूम में नीचे दी गयी  जगहों पर छिपे हो सकते है।

  1. ट्रायल रूम या बाथरूम में लगे शीशे के कोनो पर या शीशे के पीछे।
  2. ट्रायल रूम या बाथरूम में लगे कपड़े टांगने के हैंगर में।
  3. दीवार पर लगी किसी तस्वीर के फ्रैम में।
  4. दरवाजे में, खिडकियों, या Door Handle में।
  5. बिजली के उपकरण जैसे बल्ब होल्डर में।
  6. पानी की टोंटी, वॉश बेसिन या शॉवर में।
  7. होटल के कमरे में लगे पंखे, मेज पर रखे गमले, टिश्यु बॉक्स, Smoke Detector या किसी सजावट की चीजों में।

17 22 24 25

 

कैसे पता लगायें छिपे हुए कैमरों का ?

किसी मॉल के ट्रायल रूम, होटल के कमरे तथा बाथरूम या किसी पब्लिक टायलेट में छिपे हुए कैमरों का पता थोड़ी सतर्कता तथा कुछ तरीकों को अपना कर लगाया जा सकता है। आज Gyan versha पर मैं आपको ऐसे 8 तरीके बता रहा हूँ जिनसे आप कहीं पर भी छिपे हुए कैमरों का पता लगा सकते हैं।

1. अपनी आँखों से चैक करें

अपने मोबाइल के कैमरे के लैंस के गोल भाग को गौर से देंखे। अब आप चाहे कहीं पर भी हो, चाहे आप होटल में, या मॉल के ट्रायल रूम में या किसी पब्लिक प्लेस के टायलेट में हों, ऊपर बताई गई संभावित जगहों पर अपने मोबाइल के लेंस से मिलती जुलती चीजों को ध्यान से देंखे। ध्यान रखें कि कैमरे तो छिपाये जा सकते है लेकिन लैंस को खुला रखा जाता है। इसलिए गौर से देखने पर कैमरे के लैंस को देखा और पहचाना जा सकता है।

2. मोबाइल से Call करें

अगर ट्रायल रूम या बाथरूम में जाते ही फोन का नेटवर्क गायब हो जाये तो वहाँ पर कैमरा छुपा हो सकता है। संदेह की स्थिति में अपने मोबाइल से Call करें और उसे कैमरे की संभावित जगह के पास ले जायें। अगर फोन में कुछ अजीब सी आवाजें या बीप सुनाई दे तो समझ जाना चाहिए कि वहाँ पर कैमरा छुपा हुआ है। ऐसा इसलिए होता है कि जैसे ही हम Call लगाकर फोन को कैमरे के पास लेकर जाते है तो फ़ोन  कैमरे के इलेक्ट्रो मैग्नेटिक फील्ड में आते ही एक अलग तरह की तरंग (vibration) को महसूस करता है  जिससे आवाज (Sound) उत्पन्न होती है और Call नहीं लग पाती है।

1

घर पर इसका टेस्ट करने के लिए अपने फोन को Call लगाकर चलते हुए T.V. के स्पीकर के पास ले जाएँ।  T.V. के स्पीकर के इलेक्ट्रो मैग्नेटिक फील्ड आते ही आपके फोन से अजीब सी Sound आने लगेगी।

3. शीशे को चैक करें

आजकल मार्केट में डबल स्टैंडर्ड वाले शीशे भी आने लगे हैं। जिनका प्रयोग ज्यादातर माँल के ट्रायल रूम में या होटल के बाथरूम में होता है। डबल स्टैंडर्ड वाले में शीशे के दूसरी साइड से कोई आपको देख सकता है लेकिन आप उसे नहीं देख सकते हैं। इसलिए शीशे के पीछे से कोई व्यक्ति छिपकर या कैमरा लगाकर आपकी कपड़े बदलते हुए या नहाते हुए वीडियो बना सकता है और आपको पता भी नहीं चलेगा। नीचे दिये गये तरीको से डबल स्टेंडर्ड शीशे को पहचान की जा सकती है।

इसे भी पढ़ें :- महिलाओं के लिये छेड़छाड़ से बचने और अपनी सुरक्षा खुद करने के 10 उपाय

तरीका नं 1  (शीशे पर उंगली रखें)

असली शीशे की पहचान करने के लिए शीशे के ऊपर अपनी उंगली का नाख़ून रखें, अगर आपके नाख़ून तथा शीशे में दिख रहे नाख़ून के बीच में जगह (Gap) रहती है तो घबराने की जरूरत नहीं है, शीशा असली है। लेकिन अगर आपका नाख़ून तथा शीशे में दिख रहा नाख़ून बिल्कुल मिले हुए है तथा उनके बीच कोई GAP नहीं है तो शीशा डबल स्टैंडर्ड है और उसके पीछे से या तो कोई आपको देख रहा है या उसके पीछे कैमरा लगा है।

Touch finger1
Image from wikihow

 

तरीका नं 2 (शीशे पर KNOCK करें)

शीशे पर अपने हाथ से हल्की चोट मारे (KNOCK  करें)। अगर खाली डिब्बे की तरह आवाज आये तो शीशा डबल स्टैंडर्ड है। और अगर आवाज बिल्कुल भरी हुई आये तो शीशा असली है। डबल स्टैंडर्ड शीशे में आवाज गूंजती भी है।

Knock
Image from wikihow

 

तरीका नं 3 (शीशे पर लाइट डालें)

किसी टार्च या अपने मोबाइल की प्लैश लाइट जलाकर उसे शीशे की तरफ करे। अगर लाइट प्रतिबिंबित (REFLECT) होकर वापस लौट रही है तो शीशा असली है। लेकिन अगर लाइट शीशे के पार जा रही और उसके पीछे कुछ दिख रहा है तो सावधान हो जाये, शीशा डबल स्टैंडर्ड है।

Torch
Image from wikihow

 

4. रूम में अंधेरा करके देखें

ट्रायल रूम में या होटल के कमरे या बाथरूम में जाते ही वहाँ की लाइट बंद करके बिल्कुल अन्धेरा कर दें। और चारो तरफ ध्यान से देखें। अगर कहीं पर छोटी सी लाल या हरे रंग लाइट जल रही है तो वह निश्चित रूप से कैमरे की लाइट है। ऐसी जगह पर न तो कपड़े बदले और ना ही नहायें। अगर बहुत ज्यादा ही मजबूरी है तो ऐसी लाइटों के आगे कुछ चिपका दें या कुछ रख दें और लाइट बंद करके अपना काम करें।

30

 

5. आवाजों को ध्यान से सुनें

कुछ कैमरे Motion sensitive होते हैं जो जरा सी आहट होने पर अपने आप on हो जाते हैं। On होते समय उनमे से हल्की बीप सुनाई देती है। इस तरह की आवाजो का ध्यान रखें। इसके अलावा दरवाजे या खिड़की से आने वाली आवाज को भी ध्यान से सुनें।

6. दरवाजे, खिडकियों को चैक करे

दरवाजों, खिडकियों, दीवार में कोई सुराख़, रोशनदान या दरवाजे के Kay Hole को ध्यान से देखें तथा उन पर बराबर नजर रखें। इन जगहों से या दरवाजे के नीचे के स्पेस से वीडियो बनायी जा सकती है।

7. कैमरा डिटेक्टर APP का इस्तेमाल करें

Apple I-phone के लिए :-  Apple APP Store या I-tunes से Hidden Camera Detector APP डाउनलोड करें।

Android Phone के लिए :- Google play store से Hidden Camera Detector APP या Glint Finder या Body Gard में से कोई से भी APP डाउनलोड करें।

ट्रायल रूम या टायलेट में जाते ही APP को ON करें और कैमरे की संभावित जगहों पर ले जायें। Hidden Camera Detector तथा Body Gard APP में छुपे हुए कैमरे को पकड़ते ही Red या Yellow लाइट जलती है। Red लाइट का मतलब है कि वहाँ पर कैमरा छुपा हुआ है तथा Yellow लाइट का मतलब है कि वहाँ पर कैमरा हो सकता है।

download2726

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Glint Finder APP में कैमरे को पकड़ते ही Retro Reflection होने लगता है। ये सारे Apps छोटे से छोटे कैमरे को भी पकड़ लेते हैं। अगर वहाँ पर कैमरा नहीं तो इसमें कोई लाइट नही जलती है।

Retro

8. कैमरा डिटेक्टर डिवाइस का इस्तेमाल करें

कैमरा डिटेक्टर डिवाइस से भी छिपे हुए कैमरे को पकड़ा जा सकता है। आजकल मार्किट में R F Signal डिटेक्टर या बग डिटेक्टर आसानी से मिल जाते हैं। ये कही भी छिपे हुए कैमरे को आसानी से ढूंढ लेता है।

cam detector 1 Cam Detector

 

क्या करें अगर कहीं पर छिपा हुआ कैमरा मिल जाये?

अगर आपको कहीं पर कैमरा छिपा होने का शक है तो अपने घर वालों या किसी जानकर या दोस्त को फ़ोन करके  बताये और उस जगह का फोटो खींच लें और पुलिस को इसकी सूचना दें।

दोस्तों ऊपर दी गयी जानकारी तथा तरीकों से आप मॉल या होटल या पब्लिक प्लेस में अपने आपको ऐसी घटनाओं का शिकार होने से बचा सकते हैं।

दोस्तों ये एक ऐसा आर्टिकल है जिसे पढ़कर बहुत सी माता, बहनें जागरूक हो सकती है और अपने आपको किसी अनहोनी से बचा सकती हैं इसलिए इस पोस्ट को अपने सभी जानने वालों के पास पहुंचाएं तथा ज्यादा से ज्यादा सोशल साइट्स पर शेयर करें और अगर हो सके तो इस आर्टिकल को प्रिंट करके अपने सभी जानने वालों को पढ़ने के लिए दें। क्या पता हमारे एक छोटे से प्रयास से किसी माता, बहन का भला हो जाये और वो किसी ऐसी घटना का शिकार होने से बच जाये।  मैंने तो अपना काम कर दिया….. अब आपकी बारी है……आप करेंगे ना इसे शेयर। ………धन्यवाद।    

Notes :- All images used in this article are taken from social sites, public domain & google search.

Related Posts :-


“आपको ये  आर्टिकल कैसा लगा  , कृप्या कमेंट के माध्यम से  मुझे बताएं ………धन्यवाद”

“यदि आपके पास हिंदी में  कोई  Life Changing Article, Positive Thinking, Self Confidence, Personal Development,  Motivation , Health या  Relationship से  related कोई  story या जानकारी है  जिसे आप  इस  Blog पर  Publish कराना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो और  details के साथ  हमें  gyanversha1@gmail.com  पर  E-mail करें।

पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. ………………धन्यवाद् !”

—————————————————————————————————–

दोस्तों ये ब्लॉग लोगो की सेवा के उद्देश्य से बनाया गया है ताकि इस पर ऐसी पोस्ट प्रकाशित की जाये जिससे लोगो को अपनी ज़िंदगी में आगे बढ़ने में मदद मिल सके ……… अगर आपको हमारा ये ब्लॉग पसंद आता है और इस पर प्रकाशित पोस्ट आपके लिए लाभदायक है तो कृपया इसकी पोस्ट और इस ब्लॉग को ज़्यादा से ज़्यादा Share करें ताकि ज़्यादा से ज़्यादा लोगो को इसका लाभ मिल सके………
और सभी नयी पोस्ट अपने Mail Box में प्राप्त करने के लिए कृपया इस ब्लॉग को Subscribe करें।


 

नए पोस्ट अपने E-mail पर तुरंत प्राप्त करने के लिए यहाँ अपना नाम और E-mail ID लिखकर Subscribe करें।

About Pushpendra Kumar Singh 153 Articles
Hi Guys, This is Pushpendra Kumar Singh behind this motivational blog. I founded this blog to share motivational articles on different categories to make a change in human livings. I love to serve the people and motivate them.I love to read and write motivational things. Be friend with Pushpendra at Facebook Google+ Twitter

17 Comments

  1. जब भी आप नए कपडे ख़रीदते हैं तो आप इसका ट्रायल कर के बहुत खुस होती हैं। हालांकि आपका यह अनुभव को बिना किसी कठिनाई के (ट्रायल रूम ) परीक्षण के कमरे में छिपे हुए डिजिटल कैमरा के माध्यम से महंगा साबित हो सकता है। ट्रायल रूम में लगे गुप्त कैमरे आपके वक्ष और गुप्तांगो पर फोकस करते है जो कुछ काम वासना पीड़ित व्यक्तियों के खुराक के रूप में काम आता है।

  2. Dear Pushpendraji, many many heartful congratulations to you for your success step – getting approval from GoogleAdsense. I am a regular reader of your interesting Hindi website : http://www.gyanversha.com. May God bless you more and help you advance in life with full pleasure & happiness.
    Pushpendraji, can you give me two informations: 1. What is the name of the ‘Theme’ of your website ? Is it paid or free ? 2. Can anybody make more than one websites or blogs ?

    • आप ज्ञान वर्षा के रेगुलर reader हैं उसके लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद् Ranajoy ji…..

      Ranajoy जी मैं MH Magazine lite Theme use karta hoon, jo ki bilkul free hai, but ye theme meri edit ki hui hai jisme maine apne hisab se coding change kar rakhi hai….. original theme isse bilkul alag hai..

      or doosri baat koi bhi insan chahe jitni websites ya blog bana sakta hai …. bas use sabhi websites ke liye Domain and Hosting alag alag leni padegi……

  3. पुष्पेंद्र जी आपका बहुत आभार ऐसी जानकारी देने के लिए ये आम लोगो के जीवन के लिए एक बहुत ही अच्छी जानकारी है
    मै आपसे उम्र मे भले ही छोटा पर ईश्वर से आपकी दीर्घायु और स्वस्थ जीवन की प्रार्थना करता हु ।

    • आपका बहुत बहुत धन्यवाद् अभिषेक जी ….और मुझे ख़ुशी है आपको मेरे आर्टिकल पसंद आते हैं ….और ये आपका बड़प्पन है कि आप मेरे लिए प्रार्थना करते हैं ….फिर से आपका बहुत बहुत धन्यवाद् ….ऐसे ही Gyan Versha से जुड़ें रहें

  4. पुष्पेंद्र जी, आपने बहुत ही महत्वपूर्णं विषय पर आर्टिकल प्रस्तुत हुआ है। आपने अपने आर्टिकल में जितनी जानकारी दी है, उतनी जानकारी पहले कभी सुनने और पढ़ने को नहीं मिली।

3 Trackbacks / Pingbacks

  1. महिलाओं के लिये छेड़छाड़ से बचने और अपनी सुरक्षा खुद करने के 10 उपाय | Gyan Versha
  2. रेप, हमले या अपहरण से महिलायें कैसे बचें -बचाव के 11 तरीके? | Gyan Versha
  3. Google AdSense Approval : मेहनत का फल और जिंदगी की नयी शुरुआत | Gyan Versha

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*