मानसी जोशी : एक पैर खोने के बाद भी नहीं खोया हौंसला, बनीं नेशनल चैंपियन

manasi joshi inspirational story

मानसी जोशी : एक पैर खोने के बाद भी नहीं खोया हौंसला, बनीं नेशनल चैंपियन

manasi joshi inspirational storyमुश्किलें, मुसीबतें या बुरा वक्त कभी बताकर नहीं आता है | कभी कभी इंसान की ज़िंदगी एक पल में ही पूरी तरह से बदल जाती है | हम रोज अपने दैनिक कार्य करते हैं , घर से बाहर निकलते हैं लेकिन वक्त का कुछ नहीं पता होता कि कब क्या हो जाये ? कौन सी मुसीबत , कौन सी अनहोनी हमारा इंतज़ार कर रही है हमें नहीं पता होता ? कब हमारी हंसती खेलती ज़िंदगी ख़त्म हो जाये , कब हमारे सपने चकना चूर हो जायें किसी को नहीं पता होता ?

मुसीबतें, अनहोनी किसी के साथ भी हो सकती है | कुछ लोग इन्हे अपना दुर्भाग्य मन कर सारी ज़िंदगी बैठकर रोते रहते हैं | वहीँ कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो परिस्तिथियों को स्वीकार करके उनका हिम्मत से सामना करते हैं और कुछ ऐसा कर जाते हैं जो दूसरों के लिए एक मिसाल बन जाता है, प्रेरणा का स्रोत बन जाता है |

आज मैं आपके सामने एक ऐसी लड़की की कहानी पेश कर रहा हूँ जो एक एक्सीडेंट में अपना एक पैर खोने के बाद टूट कर बिखरने के बजाय एक नेशनल बैडमिंटन प्लेयर बनीं|

इस लड़की का नाम है मानसी जोशी | जो मुंबई में रहती हैं | ये एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं और बैडमिंटन की खिलाडी हैं | ये करीब 10 वर्ष की उम्र से बैडमिंटन खेल रही हैं|

बड़ी हंसी ख़ुशी से जिंदगी गुजर रही थी इनकी | आँखों में बैडमिंटन चैंपियन बनने का सपना था | लेकिन एक दिन एक दर्दनाक हादसे ने इनकी जिंदगी बदलकर रख दी |

रोजाना की तरह एक दिन वे अपनी स्कूटी से अपने ऑफिस के लिए निकलीं| कुछ ही दूर चलने पर रास्ते में एक ट्रक के साथ उनका एक्सीडेंट हो गया | ट्रक उन्हें टक्कर मारकर उनके पैर को कुचलते हुए निकल गया | उन्होंने बताया कि गलती ट्रक ड्राइवर की भी नहीं थी | दरअसल एक पिलर की वजह से ट्रक ड्राइवर उन्हें देख नहीं पाया जिसके कारण ये हादसा हुआ | लोगों की मदद से उन्हें अस्पताल पहुँचाया गया | डॉक्टरों ने उनके पैर को बचाने की बहुत कोशिश की लेकिन पैर में इन्फेक्शन बहुत ज्यादा बढ़ जाने के कारण कुछ दिनों बाद उनके पैर को काटना पड़ा |

1

ये हादसा किसी को भी तोड़ने के लिए काफी था | कुछ दिन पहले तक हंसती, खेलती कूदती एक लड़की के लिए एक पैर काट जाने का मतलब था कि जैसे सब कुछ छिन जाना | इसकी कल्पना मात्र से ही शरीर में सिहरन सी दौड़ जाती है |

लेकिन गजब की हिम्मत और साहस दिखाया इन्होने | इन्होने अपने भविष्य के लिए एक ऐसा सफर चुना जिसके बारे में बहुत ही कम लोग सोच पाते हैं | इन्होने अपनी स्थिति को स्वीकार किया और बैडमिंटन के क्षेत्र में ही आगे बढ़ने का फैसला किया |

करीब डेढ़ महीने हॉस्पिटल में रहने के बाद तथा उसके बाद 3 महीने इलाज के बाद इन्हे कृत्रिम पैर लगाया गया | इसके बाद फिजियोथेरेपी और अपने कृत्रिम पैर  के सहारे इन्होने चलना सीखना शुरू किया | इसके बाद बैडमिंटन की प्रैक्टिस और फिर खेलना भी शुरू कर दिया | इसके बाद इन्होने कई प्रतियोगिताओं और टूर्नामेंटों में हिस्सा लिया और बहुत से मेडल जीते | इसके बाद नेशनल लेवल की बैडमिंटन प्रतियोगिताओं में हिस्सा लिया और वहाँ भी कई मैच और मेडल जीते | इसके बाद सितम्बर 2015 में इन्होने इंग्लैंड में आयोजित पैरा-बैडमिंटन इंटरनेशनल टूर्नामेंट में भारत का प्रतिनिधित्व करते हुए सिल्वर मेडल जीता | अब उनका सपना 2020 में टोकियो में होने वाले पैरा ओलिंपिक में देश की ओर से खेलना है |

तो दोस्तों ये थी एक मजबूत इच्छाशक्ति वाली एक ऐसी लड़की की कहानी जिसने अपने जज्बे और साहस से बहुत से लोगों को प्रेरित किया है |

दोस्तों यह सब कहने या पढ़ने में बहुत आसान लग सकता है लेकिन हकीकत में यह सफर बहुत दर्द भरा था | कितनी बार वो गिरी होंगी, कितनी बार वो सम्भली होंगी ? और न जाने कितनी बार नकारात्मक विचार मन में आएं होंगे, न जाने कितनी बार अपने नकली पैर को देखकर अपने पुराने दिनों की याद आई होगी ? दिन में जितनी बार भी नकली पैर पर नज़र पड़ती होगी उतनी बार ही मन बिखरता सा लगता होगा ? लेकिन चेहरे पे एक प्यारी सी मुस्कान लिए इस लड़की ने अपनी जिजीविषा, मजबूत इच्छाशक्ति , साहस , जज्बे और अपनी दृढ़ता से अपने आपको बहुत ऊपर उठा लिया है और दूसरे लोगों के लिए एक मिसाल बन गयीं हैं, एक प्रेरणास्रोत और रोल मॉडल बन गयीं हैं |

2

इनकी मजबूत इच्छाशक्ति और साहस के दो उदाहरण मैं आपको नीचे बता रहा हूँ |

1. जब डॉक्टरों ने इनसे इनके पैर को काटने के बारे में पूछा तो इन्होने कहा कि ” मुझे मालूम था कि मेरे साथ कुछ ऐसा ही होने वाला है |”

इस सच को स्वीकार करने में कितनी हिम्मत और साहस की जरुरत होती है , ये बताने के लिए मेरे पास शब्द नहीं हैं , आप खुद ही समझ सकते हो |

2. जब हॉस्पिटल में कोई इनसे मिलने आता था तो ये उन्हें जोक्स सुनाती थी हंसी मजाक करती थीं ताकि उन्हें देखकर कोई रोये नहीं | जहाँ लड़कियाँ जरा सी चोट लगने पर रोना शुरू कर देती हैं, आप समझ सकते हैं कि ऐसी हालत में भी दूसरों के बारे में सोचना और हंसी मजाक करने के लिए इन्होने अपने आपको मानसिक तौर पर कितना मजबूत बनाया होगा |

वह बताती हैं कि इस घटना के बाद उनके मन में सबसे बड़ा डर यही था कि अब वे अपना प्रिय खेल बैडमिंटन नहीं खेल पाएंगी |

उनके सामने सिर्फ दो ही रास्ते थे |

पहला ये कि वे इसे अपना दुर्भाग्य मान कर सारी जिंदगी रोती रहें | और दूसरा ये कि वे इस स्थिति को स्वीकार करें और आगे बढ़ें |

और उन्होंने दूसरा रास्ता चुना |

मानसी बताती हैं कि जब लोग उनसे यह पूछते हैं कि वह इतना सब कुछ कैसे कर लेती हैं तो उनका सीधा सा जवाब होता है कि ” आपको कुछ करने से रोक कौन रहा है ?”

तो दोस्तों ये था मानसी जोशी का प्रेरणादायक सफर | इनसे प्रेरणा लेकर हम भी अपनी ज़िंदगी की किसी भी मुसीबत, मुश्किल, अप्रिय घटना या अनहोनी होने पर अपने आपको मानसिक तौर पर मजबूत बना सकते हैं | तथा मजबूत इच्छाशक्ति और साहस से अपने सपनों को साकार कर सकते हैं |

उनके बारे में और ज्यादा जानने के लिए यहाँ क्लिक करें |

Source : Internet, http://manasijosh.blogspot.in/

Related Post :-

जन्म से ही नेत्रहीन शख्स ने खडी कर दी 50 करोड़ की कम्पनी

विल्मा रुडोल्फ – जिन्होंने किया नामुमकिन को मुमकिन


“आपको ये लेख कैसा लगा  , कृप्या कमेंट के माध्यम से  मुझे बताएं ………धन्यवाद”

“यदि आपके पास Hindi में  कोई  Article, Positive Thinking, Self Confidence, Personal Development या  Motivation , Health से  related कोई  story या जानकारी है  जिसे आप  इस  Blog पर  Publish कराना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ  हमें  E-mail करें |

हमारी  E-mail Id है : gyanversha1@gmail.com.

पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. ………………धन्यवाद् !”

——————————————-

दोस्तों ये ब्लॉग लोगो की सेवा के उद्देश्य से बनाया गया है ताकि इस पर ऐसी पोस्ट प्रकाशित की जाये जिससे लोगो को अपनी ज़िंदगी में आगे बढ़ने में मदद मिल सके ……… अगर आपको हमारा ये ब्लॉग पसंद आता है और इस पर प्रकाशित पोस्ट आपके लिए लाभदायक है तो कृपया इसकी पोस्ट और इस ब्लॉग को ज़्यादा से ज़्यादा Share करें ताकि ज़्यादा से ज़्यादा लोगो को इसका लाभ मिल सके………
और सभी नयी पोस्ट अपने Mail Box में प्राप्त करने के लिए कृपया इस ब्लॉग को Subscribe करें |


नए पोस्ट अपने E-mail पर तुरंत प्राप्त करने के लिए यहाँ अपना नाम और E-mail ID लिखकर Subscribe करें।
loading...
Loading...
About Pushpendra Kumar Singh
Hi Guys, This is Pushpendra Kumar Singh behind this motivational blog. I founded this blog to share motivational articles on different categories to make a change in human livings. I love to serve the people and motivate them.I love to read and write motivational things. Be friend with Pushpendra at Facebook Google+ Twitter

9 Comments on मानसी जोशी : एक पैर खोने के बाद भी नहीं खोया हौंसला, बनीं नेशनल चैंपियन

  1. Really nice story sir

  2. बहुत ही प्रेरणा देने वाली जीवनी। कुछ कर गुजरने का जज्‍बा हो तो क्‍या नहीं किया जा सकता।

  3. ये कहानी PROOF करती है आगे बढ़ने के लिए सबसे पहले हिम्मत की जरुरत होती है VERY NICE
    प्रियंका पाठक
    http://dolafz.com/

  4. पुष्पेन्द्र जी आपने मानसी जी की कहानी पेश करके ऐसे कई लोगों के लिए एक मिसाल प्रस्तुत की है.
    कृपया आप ये लेख जरुर पढ़ें जिसमें बताया गया है कि कैसे कुछ लोग अपना नसीब बदल लेते हैं.

    http://www.hindisuccess.com/2015/12/kya-hath-ki-lakiro-me-likha-hi-takdir-hoti-hai-in-hindi.html

  5. bahut inspirational story hai mansi joshi ki. kya himmat ka kaam kiya hai mansi ne.

2 Trackbacks & Pingbacks

  1. एक हाथ का बच्चा अपनी ज़िद से बना मार्शल आर्ट्स का चैंपियन | Gyan Versha
  2. कभी बर्तन माँजने वाले, तीसरी पास, शख्स को मिला पदमश्री अवार्ड | Gyan Versha

Leave a comment

Your email address will not be published.


*