रिज्यूमे क्या होता है? और क्यों जरुरी होता है?

If you like this article, Please Share it on
  • 13
    Shares

रिज्यूमे क्या होता है? और क्यों जरुरी होता है? (What is resume? and why Resume is required?)

चाहे आप एक Fresher हों या experienced professional, अगर आपको नौकरी चाहिए तो एक रिज्यूमे (Resume) या Curriculum Vitae की जरुरत पड़ेगी। किसी भी तरह की Job के लिए चाहे वह academic हो या non-academic, चाहे किसी प्राइवेट कम्पनी की Job हो या किसी MNC (Multi National Company) की Job। हर जगह आपको नौकरी पाने के लिए resume या CV की जरूरत पड़ेगी। जब भी किसी कम्पनी से कोई vacancy निकलती है तो candidates के selection की सबसे पहली सीढ़ी reusme ही होती है। उस vacancy के लिए candidates से उसका resume ही मंगाया जाता है। Candidates के reusme के आधार पर ही company recuiters ये तय करते हैं कि उस candidates को नौकरी के लिए बुलाना है या नहीं।

what is resume

ज्यादातर candidates, resume और CV को एक ही मानते हैं। और हर कम्पनी में हर job position के लिए एक ही resume या CV भेजते रहते हैं। जिससे उनका resume पढ़ा ही नहीं जाता है। और उन्हें नौकरी मिलने के chance बहुत कम हो जाते हैं।

इसे भी पढ़ें :-  Curriculum vitae क्या होता है और ये कहाँ जरुरी होता है?

दोस्तों, resume और curriculum vitae (CV) दोनों का purpose तो एक ही होता है लेकिन दोनों होते हैं बिल्कुल अलग अलग। Resume और CV में अन्तर होता है और दोनों को अलग अलग जगह पर अलग अलग job profile के लिये use किया जाता है।

इसे भी पढ़ें :-  Resume और CV में क्या अन्तर है ?

आज के इस article में मैं आपको सिर्फ resume के बारे में बताउँगा कि

  1. रिज्यूमे क्या होता है? (what is resume?)
  2. रिज्यूमे का purpose क्या है? (what is the purpose of resume?)
  3. रिज्यूमे क्यों जरुरी है?(why resume is required?)
  4. रिज्यूमे कहाँ दिया जाता है? (Where resume is required?)   

इसे भी पढ़ें :- किसी कंपनी में नौकरी छोड़ते वक्त ना करें ये 5 गलतियाँ

 

1. रिज्यूमे क्या होता है? (what is resume?)

रिज्यूमे एक ऐसा document होता है जो आपकी शिक्षा (education), योग्यता (skills), कार्यअनुभव (work experience), उपलब्धियों (achievements) का संक्षिप्त विवरण (short summary) उस कम्पनी के HR Manager के सामने पेश करता है जिसमें आप नौकरी करने के इच्छूक हैं।

रिज्यूमे में आपकी शिक्षा, कार्य अनुभव, दक्षता, योग्यता और आपकी उपलब्धियों के महत्त्वपूर्ण बिन्दुओं का जिक्र होता है। रिज्यूमे ज्यादा बड़ा नहीं होता है। यह एक या दो पेज का ही होता है इसलिए इसमें सिर्फ उन बातों और जानकारियों को highlight किया जाता है जो उस job की जरूरतों में शामिल हों। रिज्यूमे में हर बात short में लिखी जाती है। Resume, Job की जरुरत के हिसाब से, जॉब Profile के हिसाब से change किया जा सकता है। रिज्यूमे एक तरह से candidate के professional profile का snapshot होता है। रिज्यूमे सिर्फ इंटरव्यू तक पहुँचने का एक रास्ता है। रिज्यूमे के आधार पर ही candidates को इंटरव्यू के short list किया जाता है।

इसे भी पढ़ें :- Fresher या नये students को अच्छी नौकरी पाने के लिए 10 Tips

Online  job matching Services Provide कराने वाली कम्पनी The Ladders की एक study के मुताबिक, recruiters किसी भी रिज्यूमे को पढ़ने में औसतन 6 सेकण्ड का समय खर्च करते हैं। इन 6 seconds में ही recruiters यह तय कर लेते हैं कि उस रिज्यूमे को interview के लिए सेलेक्ट करना है या नहीं। इसलिए रिज्यूमे छोटा बनाया जाता है। और ज्यादा से ज्यादा 2 page का होना चाहिए।

इसलिये आपके resume में आपकी कार्यकुशलता, योग्यता और अनुभव इतने प्रभावशाली ढंग से लिखी होनी चाहिए कि resume देखते ही recruiters पर उसका प्रभाव पड़े और वो पहली नजर में ही आपका resume select कर ले।

इसे भी पढ़ें :- जिन्दगी में आगे बढ़ना है तो ये 12 काम आपको तुरन्त छोड़ देनें चाहिए

ज्यादातर लोगों को ये ही नहीं पता होता है कि एक अच्छा रिज्यूमे कैसे बनाये? Resume बनाना भी एक कला है। अगर वो आपमें सारे गुण, योग्यता हैं, जो उस job के लिये आवश्यक हैं जिसके लिए आप apply कर रहे हो, लेकिन आप अपने resume के माध्यम से ये बताने में सक्षम नही हो तो आपके सारे गुण, सारी योग्यता बेकार हैं। इंटरव्यूवर आपके रिज्यूमे को बिना पढ़े ही dustbin में डाल देगा।

एक तरह से आप resume को अपना sale letter या advertisement सकते हैं। जो आपकी उन खूबियों, उन योग्यताओं को अत्यन्त प्रभावशाली ढंग से interviewer के समक्ष प्रस्तुत करता हैं जिनकी interviewer को उस नौकरी के लिए जरूरत है। रिज्यूमे के pattern को समझने के लिए नीचे दिए example को देखें और समझें ।

what is resume

2. रिज्यूमे का उददेश्य क्या है? (What is the purpose of Resume?)

किसी भी कम्पनी में जब भी कोई vacancy open होती है तो कंपनी उस vacancy का पूरा job profile, role, responsibilities, उस job के लिए जरुरी qualifications, योग्यतायें आदि का ad निकालती है। फिर उस कम्पनी का hiring manager इंटरव्यू से पहले candidates के resume मंगवाता है। Resume के आधार पर ही hiring manager ये तय करता है कि वह candidate उस job profile के लिए उपयुक्त है या नहीं। वे योग्यतायें, कार्यकुशलता, अनुभव जो interviewer उस position के लिये किसी candidates में चाहता है। वह उसे उसके resume से ही पता चलती हैं। Resume के आधार पर hiring manager candidate को interview के लिये बुलाता है।

इसे भी पढ़ें :- ऑफिस पहुँचकर सबसे पहले ये 6 काम करें

अगर candidate ऐसे ही किसी कंपनी में इंटरव्यू देने के लिए चला जाये और उसे वहाँ जाकर पता चले कि वह vacancy तो उसके लायक है ही नहीं या वो उस vacancy के लिए suitable ही नहीं है तो इससे उस candidate और कंपनी दोनों का समय और पैसे का नुकसान होता है। Resume के आधार पर shortlist करने से कैंडिडेट और recruiters दोनों को फायदा होता है, दोनों का समय और पैसा बचता है।

3. रिज्यूमे क्यों जरुरी है? (Why resume is required?)

कुछ लोगों का मानना है कि resume सिर्फ इंटरव्यू के लिये बुलाने के लिये एक document है। जबकि ऐसा नही है। इंटरव्यू के बुलावे के साथ साथ यह एक ऐसा tool है जो आपके prospective employer के सामने आपकी योग्यता, अनुभव, कार्यकुशलता, उपलब्धियों को प्रभावी ढंग से बेचता है। यह आपके prospective employer के सामने आपको introduce करता है, उसे impress करता है, उसके सामने आपके career के snapshot को प्रस्तुत करता है।

इसलिये, नई Job, नई opportunities, interview calls पाने के लिये resume एक important document है। Resume से ही interviewer सैकड़ों की भीड़ में से उपयुक्त candidate का चयन करता है। Resume ही किसी organization में घुसने की पहली सीढ़ी होती है। Resume ही candidates को recruiters के साथ आमने सामने बैठकर बात करने का मौका देता है।

4. रिज्यूमे कहाँ दिया जाता है? (Where resume is required)

आमतौर पर रिज्यूमे सभी तरह की private jobs, MNC jobs, business, industry, governmental और non- profit job के लिए दिया जाता है।

रिज्यूमे के प्रकार (Type of Resume)

मुख्य तौर पर रिज्यूम 4 तरह के होते है।

  1. कालक्रमबद्द रिज्यूमे (Chronological Resume)
  2. योग्यता और कार्यसम्बन्धी रिज्यूमे (Functional Resume)
  3. संयोजन रिज्यूमे (Combination Resume)
  4. लक्षित रिज्यूमे (Targeted Resume)

रिज्यूमे बनाते समय ध्यान रखने वाली कुछ बातें।

  1. रिज्यूम को छोटा सरल, प्रभावशाली और व्यावसायिक होना चाहिए। रिज्यूम में अनावश्यक बातें ना लिखें।
  2. आप जिस job profile लिये resume भेज रहें हैं, आपके resume में उसी से सम्बंधित योग्यतायें, qualifications, skills, work experience और keywords होने चाहियें।
  3. रिज्यूम को हर कम्पनी तथा हर job profile के हिसाब से customized करना चाहिये।
  4. रिज्यूम में gramatical mistakes और spelling errors नहीं होनी चाहिए।
  5. रिज्यूम 2 page से ज्यादा नहीं होना चाहिए।
  6. रिज्यूम में हर बात, हर तथ्य बिल्कुल सत्य होना चाहिए। कभी भी भूलकर भी कोई गलत जानकारी या झूठी बात रिज्यूम में ना लिखें।
  7. रिज्यूम में कभी personal details जैसे- age, religion, marital status, birthdate, sex, father name आदि नहीं लिखने चाहियें।
  8. रिज्यूम में awards, honors, publications, presentations, teaching experience, assistantship, grants या वो अनुभव या जानकारी शामिल नहीं करनी चाहिये जिसकी उस जॉब के लिए जरुरत नहीं है।

रिज्यूमे में क्या जानकारी देनी चाहिए? (What information should be include in resume?) 

  1. संपर्क की जानकारी (Contact Details)
  2. करियर उद्देशय / विवरण (Career Objective / Summary)
  3. कार्यअनुभव (Work Experience)
  4. शैक्षणिक योग्यता (Educational Qualification)
  5. योग्यता और रुचियाँ (Skill & Strength / Hobbies)
  6. अतिरिक्त कोर्स (Additional Courses)

 

 

Related Article :

 


“आपको ये  आर्टिकल कैसा लगा  , कृप्या कमेंट के माध्यम से  मुझे बताएं ………धन्यवाद”

“यदि आपके पास हिंदी में  कोई  Life Changing Article, Positive Thinking, Self Confidence, Personal Development,  Motivation , Health या  Relationship से  related कोई  story या जानकारी है  जिसे आप  इस  Blog पर  Publish कराना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो और  details के साथ  हमें  gyanversha1@gmail.com  पर  E-mail करें।

पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ PUBLISH करेंगे. ………………धन्यवाद् !”


 


If you like this article, Please Share it on
  • 13
    Shares
About Pushpendra Kumar Singh 164 Articles
Hi Guys, This is Pushpendra Kumar Singh behind this motivational blog. I founded this blog to share motivational articles on different categories to make a change in human livings. I love to serve the people and motivate them.I love to read and write motivational things................... More About Me .....................Follow me on social sites

1 Comment

6 Trackbacks / Pingbacks

  1. Curriculum vitae क्या होता है और ये कहाँ जरुरी होता है? | Gyan Versha
  2. 10 Tips - Interview की तैयारी करने के लिए | Gyan Versha
  3. इन्टरव्यू के दौरान क्या करें ? | Gyan Versha
  4. Fresher या नये students को अच्छी नौकरी पाने के लिए 10 Tips | Gyan Versha
  5. Resume और CV में अन्तर | Gyan Versha
  6. Resume और CV में क्या अन्तर है ? | Gyan Versha

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*